S M L

कांग्रेस के महाधिवेशन की कामयाबी के पीछे प्रियंका का रहा अहम रोल

प्रियंका गांधी वाड्रा ने हमेशा ही यह साफ किया है कि वो नहीं बल्कि उनके भाई राहुल गांधी ही कांग्रेस पार्टी का चेहरा होंगे

FP Staff Updated On: Mar 19, 2018 05:28 PM IST

0
कांग्रेस के महाधिवेशन की कामयाबी के पीछे प्रियंका का रहा अहम रोल

हाल में खत्म हुए कांग्रेस के 84वें महाधिवेशन को राजनीतिक नजरिए से कामयाब माना जा रहा है. राहुल गांधी ने इसमें नए तेवर और जोश के साथ अपने कार्यकर्ताओं और नेताओं को संबोधित किया.

दो दिन तक चले कांग्रेस महाधिवेशन के व्यवस्थित ढंग से पूरा होने में प्रियंका वाड्रा की खासी भूमिका है. महाधिवेशन का जगह चयन करने से लेकर मच्छरों की समस्या दूर करने तक सबकुछ में वो शामिल रही हैं.

कांग्रेस के एक उच्च सूत्र ने बताया, 'महाधिवेशन के पहले दिन कुछ कुर्सियां खाली दिखीं तो उन्होंने कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया कि दूसरे दिन हम अधिक लोगों को वहां लाएं.'

उसने कहा कि इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम जहां यह महाधिवेशन चल रहा था, वहां कई लोगों ने मच्छरों की शिकायत की. खुद उनकी मां सोनिया गांधी ने भी ऐसा कहा तो प्रियंका देर रात वहां आईं और उन्होंने वहां 2 घंटे रुककर फ्यूमिगेशन (छिड़काव) कराया और उसकी निगरानी की.

RahulGandhi_PriyankaGandhi

राहुल गांधी और प्रियंका गांधी (फोटो: AICC)

महाधिवेशन में कौन-कौन (स्पीकर्स) भाषण देगा और उसका क्रम क्या हो यह भी प्रियंका ने तय किया. यह उनकी ही सोच थी कि मंच पर राहुल गांधी अकेले वक्ता होंगे और उनके पीछे कांग्रेस का चुनाव निशान दिखे. कांग्रेस के महाधिवेशन में परंपरागत गद्दे का इस्तेमाल नहीं करने का निर्णय भी उन्हीं का था. इससे जनता में एक मजबूत संदेश गया. वर्षों से कांग्रेस नेता अपने कार्यक्रमों में गद्दे का इस्तेमाल बैठने के लिए करते थे.

कांग्रेस के महाधिवेशन का नारा 'अब बदलाव जरूरी' था इसके ही तहत सभी नेताओं के बैठने की जगह मंच के नीचे बनाई गई थी.

प्रियंका ने किसी भी तरह की राजनीतिक महत्वाकांक्षा से हमेशा ही इनकार किया है. जब भी उनसे इस संबंध में पूछा गया उन्होंने साफ किया कि वो नहीं बल्कि उनके भाई राहुल गांधी ही पार्टी का चेहरा होंगे. लेकिन पार्टी में प्रियंका की भूमिका के बारे में हर कोई जानता है. किसी को इसमें संदेह नहीं है. प्रियंका ने 2017 में उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के साथ कांग्रेस के हुए गठबंधन में अहम रोल निभाया था. उन्होंने हाल में संपन्न हुए गुजरात चुनाव में प्रचार कार्यों की भी निगरानी की थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi