S M L

प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में आने से मची खलबली, जानिए क्या बोले नेता

प्रियंका के सक्रिय राजनीति में आने से सियासी सुगबुगाहट शुरू हो गई है. माना जा रहा है कि उनके राजनीति में आने से कांग्रेस मजबूत होगी

Updated On: Jan 23, 2019 02:38 PM IST

FP Staff

0
प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में आने से मची खलबली, जानिए क्या बोले नेता

2019 लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी की सक्रिय राजनीति में एंट्री हो गई है. आलाकमान ने उन्हें कांग्रेस महासचिव पद की जिम्मेदारी है और उन्हें पूर्वी UP का प्रभार दिया गया है.

प्रियंका के सक्रिय राजनीति में आने से सियासी सुगबुगाहट शुरू हो गई है. माना जा रहा है कि प्रियंका के राजनीति में आने से कांग्रेस मजबूत होगी और उसका प्रभाव पूरे देश की राजनीति पर पड़ेगा.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रियंका को प्रभारी बनाने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि उन्होंने प्रियंका को केवल दो महीने के लिए नहीं भेजा है बल्कि कांग्रेस ने प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया को मिशन सौंपा है. बता दें कि सिंधिया को पश्चिमी यूपी का प्रभार दिया गया है.

हालांकि प्रियंका के चुनाव लड़ने के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि इसका फैसला प्रियंका गांधी को ही करना है. राहुल ने कहा, मेरी बहन कर्मठ है, सक्षम है. मुझे बहुत खुशी है कि वो अब हमारे साथ काम करेंगी. प्रियंका के राजनीति में आने के फैसले से बीजेपी घबराई हुए है.

प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा ने उनके राजनीति में उतरने पर बधाई दी है. फेसबुक पोस्ट में उन्होंने बधाई देते हुए कहा, 'जीवन के हर मोड़ पर आपके साथ हूं.' इस समय रॉबर्ट वाड्रा विदेश में हैं.

वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा ने कहा कि उन्हें काफी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई है. प्रियंका को भले ही पूर्वी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी दी गई हो लेकिन इसका असर प्रदेश भर में पड़ेगा.

कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने बताया कि प्रियंका के सक्रिय राजनीति में आने से कांग्रेस को न सिर्फ उत्तर प्रदेश बल्कि समूचे देश में फायदा होगा. प्रियंका विदेश से लौटने के बाद 1 फरवरी को पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभार संभालेंगी.

बीजेपी ने प्रियंका की एंट्री को वंशवाद की राजनीति करार दिया है. बीजेपी नेता संबित पात्रा ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि यह पूर्व निर्धारित फैसला है. वो परिवार को ही पार्टी मानते हैं जबकि बीजेपी पार्टी को अपना परिवार मानती है. कांग्रेस ने ऐसा करके मान लिया है कि राहुल गांधी असफल हो गए हैं. वहीं शिवसेना ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, कांग्रेस ने प्रियंका गांधी पर फैसला लेने में देरी कर दी.

जनता दल युनाइटेड के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने प्रियंका को राजनीति में उतरने पर बधाई दी है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, भारतीय राजनीति में यह एक बहुप्रतीक्षित फैसला था. लोग इसकी टाइमिंग, निश्चित भूमिका और पद को लेकर बहस कर सकते हैं. मगर मेरे लिए सबसे बड़ी खबर यह है कि उन्होंने आखिरकार राजनीति में उतरने का फैसला कर लिया.

ये भी पढ़ें: प्रियंका गांधी के बारे में वो बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे

ये भी पढ़ें: कमलनाथ सरकार को BSP विधायक की धमकी, मंत्रीपद नहीं दिया तो होगा कर्नाटक जैसा हाल

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi