S M L

विदाई समारोह में बोले प्रणब: इंदिरा गांधी ने मेरे करियर को दी दिशा

अपने विदाई भाषण में प्रणब ने कहा कि जीएसटी पास होना परिपक्व लोकतंत्र की निशानी है

Updated On: Jul 23, 2017 06:50 PM IST

FP Staff

0
विदाई समारोह में बोले प्रणब: इंदिरा गांधी ने मेरे करियर को दी दिशा

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का विदाई समारोह संसद में खत्म हो गया है. पीएम मोदी ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का संसद भवन पंहुचने पर स्वागत किया. कार्यक्रम सेंट्रल हॉल में हुआ.

संसद में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, कांग्रेस चेयरपर्सन सोनिया गांधी समेत दोनों सदनों के सांसद मौजूद थे.

प्रणब मुखर्जी को विदाई देते हुए लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने  उनके कार्यकाल की उपलब्धियां बताईं. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल यादगार रहा. हम आपके सपनों को पूरा करेंगे. 23 जुलाई राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के कार्यकाल का आखिरी दिन है.

सुमित्रा महाजन के बाद उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने राष्ट्रपति के कार्यकाल की उपलब्धियां बताईं.

इसके बाद राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने विदाई भाषण दिया.

ये हैं उनके विदाई भाषण की मुख्य बातें:

- संसद ने मेरी राजनीतिक सोच को आकार दिया है. मैंने अपने जीवन में बहुत कुछ सीखा है.

- मेरे करियर को इंदिरा गांधी ने दिशा दी. मुझे इस लोकतंत्र के मंदिर ने तैयार किया है.

- देश की एकता संविधान का आधार है. शानदार कार्यक्रम के लिए सभी का शुक्रिया.

- जीएसटी पास होना परिपक्व लोकतंत्र की निशानी है. संसद में बिना बहस के पास हुआ बिल जनता के साथ धोखा है.

- प्रणब मुखर्जी ने यह भी कहा कि संसद में व्यवधान सरकार के ज्यादा विपक्ष के लिए नुकसानदायक है.

- भारत में अलग-अलग धर्मों के लोग संविधान की छत्रछाया में रहते हैं. वरिष्ठ सदस्यों के भाषणों से मैंने सीख ली.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi