S M L

मुखर्जी ने राष्ट्रवाद पर हेडगेवार और सावरकर की विचारधारा का जिक्र नहीं किया : तोगड़िया

प्रवीण तोगड़िया ने कहा, 'देश में राष्ट्रवाद पर दो विचारधाराएं हैं. इनमें पहली विचारधारा गांधी और नेहरू की है, जबकि दूसरी विचारधारा हेडगेवार और सावरकर की है.'

Updated On: Jun 08, 2018 04:07 PM IST

Bhasha

0
मुखर्जी ने राष्ट्रवाद पर हेडगेवार और सावरकर की विचारधारा का जिक्र नहीं किया : तोगड़िया

विश्व हिंदू परिषद के पूर्व नेता प्रवीण तोगड़िया ने शुक्रवार को जोर देकर कहा कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यक्रम में राष्ट्रवाद पर केशव बलिराम हेडगेवार और विनायक दामोदर सावरकर के विचारों का उल्लेख नहीं किया.

तोगड़िया ने इंदौर प्रेस क्लब में संवाददाताओं से कहा, 'मुखर्जी ने गुरुवार को अपने भाषण में राष्ट्रवाद पर महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू की विचारधारा का तो बराबर जिक्र किया. लेकिन उन्होंने अपने पूरे भाषण में राष्ट्रवाद के विषय में हेडगेवार और सावरकर के विचारों का कोई उल्लेख नहीं किया.'

उन्होंने कहा, 'देश में राष्ट्रवाद पर दो विचारधाराएं हैं. इनमें पहली विचारधारा गांधी और नेहरू की है, जबकि दूसरी विचारधारा हेडगेवार और सावरकर की है.' पूर्व VHP नेता ने मांग की कि केंद्र सरकार को संसद में कानून पारित कर अयोध्या में राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का रास्ता साफ करना चाहिए.

राम मंदिर मामला फिलहाल शीर्ष अदालत में विचाराधीन है. इसका जिक्र किए जाने पर तोगड़िया ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी पर कटाक्ष किया, 'जब आडवाणी ने रथ यात्रा निकाली थी, तब क्या यह मामला अदालत में विचाराधीन नहीं था ? फिर उन्होंने सोमनाथ से अयोध्या तक रथ यात्रा क्यों निकाली थी? उन्हें सुप्रीम कोर्ट भवन से अयोध्या तक रथयात्रा निकालनी चाहिए थी.'

उन्होंने एक सवाल पर कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए 90 के दशक में जनता से करीब 8.5 करोड़ रुपए का चंदा जुटाया गया था और इसके हिसाब के बारे में किसी को संदेह करने की कोई जरूरत नहीं है.

पूर्व VHP नेता ने कहा, 'हमारे पास इस चंदे के एक-एक पैसे का हिसाब है.' तोगड़िया ने मीडिया के अलग-अलग सवालों के बावजूद अपने प्रस्तावित संगठन के बारे में पत्ते नहीं खोले. उन्होंने कहा कि वह 24 जून को नयी दिल्ली में इस नये संगठन और इसकी भावी कार्ययोजना के बारे में घोषणा करेंगे.

किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए मंदसौर रवाना होने से पहले उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र और राज्य सरकारों की नीतियों के कारण अन्नदाता कर्ज की मार झेल रहे हैं और अपनी समस्याओं का समाधान नहीं मिलने के कारण उन्हें आत्महत्या तक करनी पड़ रही है.

उन्होंने मांग की कि खेती के तमाम खर्चों का सही फॉर्मूले से आकलन कर किसानों को सभी फसलों की उत्पादन लागत का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य दिलवाया जाये.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi