S M L

कैशलेस इकोनॉमी को लेकर बीजेपी की नई पहल, पीएम ने भी ली चेक से कमल-संदेश की सदस्यता

पीएम मोदी ने पार्टी मुखपत्र कमल संदेश की चेक से पेमेंट कर सदस्यता ली

Updated On: Jan 27, 2017 08:24 PM IST

Amitesh Amitesh
विशेष संवाददाता, फ़र्स्टपोस्ट हिंदी

0
कैशलेस इकोनॉमी को लेकर बीजेपी की नई पहल, पीएम ने भी ली चेक से कमल-संदेश की सदस्यता

नोटबंदी के ऐतिहासिक ऐलान के बाद सरकार की तरफ से अपने कदम को हर स्तर पर सही ठहराने की पूरी कोशिश हो रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जोर कैशलेश इकोनॉमी पर है. लगातार इसके लिए पूरे देश की जनता को प्रोत्साहित भी किया जा रहा है और नए-नए विकल्प भी दिए जा रहे हैं.

लेकिन, अब खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैशलेस इकोनॉमी को बढ़ावा दिए जाने की पहल शुरू कर दी है. बीजेपी के मुखपत्र कमल संदेश की आजीवन सदस्यता लेते हुए प्रधानमंत्री ने चेक के जरिए सदस्यता शुल्क का भुगतान कर इसकी शुरुआत भी की है.

पीएम मोदी और अमित शाह ने कमल संदेश का ऑनलाइन संस्करण लॉन्च किया

पीएम मोदी और अमित शाह ने कमल संदेश का ऑनलाइन संस्करण लॉन्च किया

प्रधानमंत्री के अलावा वित्त मंत्री अरुण जेटली, रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर, मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी कमल संदेश की आजीवन सदस्यता कैशलेस शुल्क के जरिए ली है. जबकि, बीजेपी शासित राज्यों के मंत्री, बीजेपी सांसद और विधायकों ने भी बड़ी तादाद में कमल –संदेश की आजवीन सदस्यता ली है. इन सभी ने कैशलेस तरीके से शुल्क अदा किए हैं.

क्या कहते हैं कमल संदेश के एडिटर 

कमल संदेश के कार्यकारी संपादक डॉ.शिवशक्ति बख्शी ने फ़र्स्टपोस्ट हिंदी को बताया कि इससे कैशलेस अभियान को बढ़ावा मिलेगा. खास तौर से प्रधानमंत्री के कैशलेस तरीके से आजीवन सदस्यता लेने के बाद दूसरे लोग भी इससे प्रभावित होंगे.

बख्शी ने कहा कि इस तरीके से कमल संदेश की भी पूरे देश के साथ-साथ दुनिया में भी पहुंच बढ़ेगी, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग पार्टी और पार्टी की गतिविधियों से अवगत हो सकेंगे.

दरअसल, बीजेपी सदस्यता के मामले में दुनिया की नंबर वन सबसे बड़ी पार्टी बनने के बाद अब अपने सभी सदस्यों के साथ-साथ बाकी लोगों के बीच पार्टी की विचारधारा को पहुंचाने की पूरी कोशिश में लगी है.

दुनिया भर में फैले अपने समर्थकों तक अपनी पहुंच बनाने के लिए बीजेपी ने अपने मुखपत्र कमल-संदेश को नए कलेवर के साथ लॉन्च किया है. पिछले दिसंबर में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कमल संदेश के नए कलेवर को लॉन्च किया था.

पार्टी का मुखपत्र कमल-संदेश पाक्षिक है जो हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में आता है. लेकिन, कमल संदेश के ऑनलाइन संस्करण की शुरुआत कर बीजेपी की कोशिश ज्यादा लोगों तक अपनी पहुंच बनाने की है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi