S M L

'कुछ बदलेगा नहीं' की सोच से काफी आगे निकल चुका है देश: पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि पिछले 3-4 वर्षों में लोगों का नजरिया भारत के प्रति बदला है

Updated On: Jan 09, 2018 01:38 PM IST

FP Staff

0
'कुछ बदलेगा नहीं' की सोच से काफी आगे निकल चुका है देश: पीएम मोदी

प्रवासी सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने इस सम्मेलन में हिस्सा लेने वाले प्रवासियों का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि इससे फर्क नहीं पड़ता कि आप दुनिया के किस कोने से आए हैं लेकिन आपको यहां देखकर सबको खुशी हो रही है. पीएम मोदी ने कहा कि पिछले 3-4 वर्षों में लोगों का नजरिया भारत के प्रति बदला है. भारत अब आगे बढ़ रहा है. लोगों की अपेक्षाएं चरम पर हैं.

इस कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे प्रवासी भारतीय सांसदों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि मुझे नहीं पता, वे कहां है लेकिन मैं कल्पना कर सकता हूं कि आपके पूर्वज आपको आज यहां देख कर कितना खुश हो रहे होंगे.

भारतीय प्रवासी सांसदों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जब भी मैं यह खबर सुनता कि जहां आप लोग रहते हैं वहां किस प्रकार आप अपनी नीतियों से राजनीति और सिस्टम को प्रभावित करते हैं, तो मुझे गर्व महसूस होता है.

पीएम मोदी ने सांसदों के समूह को देख कर कहा कि अगर मैं राजनीति की बात करूं, तो मैं देख पा रहा हूं कि मेरे सामने भारतीय मूल के सांसदों का एक मिनी वर्ल्ड पार्लियामेंट बैठा है. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार हम आगे बढ़ रहे हैं उससे वर्ल्ड बैंक, आईएमएफ जैसे तमाम संगठन हमारी तरफ सकारात्म तरीके से देख रहे हैं.

कुछ बदलेगा नहीं.. की सोच से आगे निकल चुका है देश

पीएम मोदी ने कहा कि भारत उस सोच से काफी आगे निकल चुका है जिसमें कहा जाता था कि जैसा पहले था वैसा चलता रहेगा, कुछ बदलेगा नहीं. देश के लोगों का लक्ष्य और आकांक्षाएं अपने ऊंचे स्तर पर है यहीं कारण है कि देश एक बड़े बदलाव से गुजर रहा है.

पीएम ने कहा कि 21वीं सदी को ध्यान में रखकर सरकार टेक्नोलॉजी और ट्रांसपोर्टेशन में लगातार निवेश को बढ़ा रही है. उन्होंने कहा कि तीन साल में आधे से ज्यादा निवेश कंसट्रक्शन, एयर ट्रासपोर्ट, खनन, सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर और बिजली में हुआ है.

दुनिया में आई आपदाओं और उसमें भारत की भूमिका को बताते हुए पीएम ने कहा कि नेपाल का भूकंप, श्रीलंका की बाढ़ या मालदीव में पानी की समस्या हो. भारत सबसे पहले मदद करने को तैयार था. उन्होंने कहा कि जब यमन में हालात ठीक नहीं थे तब हमने अपने 4500 लोगों को वहां से बचाया इसके साथ ही अन्य देशों के दो हजार लोगों को भी बचाया. इस तरह की गंभीर परिस्थितियों में भी भारत की ये मानवता वसुधैव कुटंबकम का एक हिस्सा है.

सुषमा स्वराज केवल भारतीयों का ही नहीं बल्कि एनआरआई का भी रखती हैं ध्यान

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की तारिफ करते हुए पीएम ने कहा कि सुषमा जी केवल भारतीय नागरिकों का ख्याल ही नहीं रखती हैं बल्कि एनआरआई का भी ध्यान रखती हैं. उनका मंत्रालय एनआरआई की समस्याओं पर रियल टाइम मॉनिटरिंग सिस्टम से हर समय ध्यान रखता है.

ऐसा माना जा रहा है कि 21वीं सदी एशिया की होगी और अपनी बढ़ती ताकत से भारत एक बड़ा खिलाड़ी होगा. आपको हमारे ग्रोथ पर खुशी होगी और इससे हम और ऊर्जा से काम करेंगे.

इशारों-इशारों में चीन की विस्तारवादी सोच पर करारा प्रहार करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हम किसी के संसाधनों का फायदा उठाने का इरादा नहीं रखते हैं और न ही हम किसी के क्षेत्र पर नजर रख रहे है. हमारा ध्यान हमेशा क्षमता निर्माण और संसाधन विकास पर रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi