S M L

कांग्रेस मुक्त भारत पर आखिर क्यों देनी पड़ी पीएम मोदी को सफाई?

आखिरकार वह साल आ गया है जब यह देखना है कि देश में मोदी लहर काम करती है या फिर राहुल गांधी अपनी पुरानी छवि से उबरकर कांग्रेस को खोया सम्मान दिला पाते हैं

Updated On: Jan 01, 2019 09:50 PM IST

FP Staff

0
कांग्रेस मुक्त भारत पर आखिर क्यों देनी पड़ी पीएम मोदी को सफाई?

2014 में- हम देश को कांग्रेस मुक्त बनाएंगे. 2019- कांग्रेस मुक्त करने से हमारा मतलब कांग्रेस के विचार और उसके कल्चर से है. 2014 से 2019 के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान में आया यह बहुत बड़ा बदलाव है. आज से पहले कभी पीएम मोदी की यह समझाने की जरूरत नहीं पड़ी थी कि कांग्रेस मुक्त करने से उनका मतलब देश की सबसे पुरानी पार्टी को खत्म करना नहीं था. लेकिन अब बदले वक्त में एक इंटरव्यू में उन्होंने इस बात को पूरी तरह साफ कर दिया.

कुछ दिनों पहले ही मिजोरम, तेलंगाना, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में चुनाव हुए थे. इनमें से तीन राज्यों में कांग्रेस अपनी सरकार बनाने में कामयाब रही. छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में 15 साल के बाद कांग्रेस के हाथ सत्ता आई थी.

तीन राज्यों में अपनी सरकार बनाने के बाद राहुल गांधी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने नेगेटिव नहीं बल्कि पोजेटिव तरीके से अपनी बात की शुरुआत की थी. तब उन्होंने कहा था, हम 2019 में नरेंद्र मोदी को हराएंगे लेकिन किसी को भारत से मुक्त नहीं करना चाहते हैं. राहुल गांधी ने यह भी कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से यह सीखने को मिला है कि क्या-क्या नहीं करना चाहिए.

क्या वक्त बदल गया?

तीन राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद राहुल गांधी की इमेज में बदलाव आया है. 2014 के चुनाव प्रचार के मुकाबले मौजूदा दौर को देखें तो यह साफ हो गया है कि बदलाव शुरू हो गया है. पिछले 14 साल से राहुल गांधी शायद ऐसे ही किसी बदलाव की उम्मीद कर रहे थे. ऐसे कई मौके आए जब यह लगा कि राहुल गांधी राजनीति सीख चुके हैं लेकिन बीच-बीच में कुछ ऐसा होता था कि उनकी छवि फिर धूमिल हो जाती थी. इस बार जिस तरह से राहुल गांधी ने मध्यप्रदेश और राजस्थान के सीएम पद का मामला सुलझाया है वह बेहतरीन है. अब यह देखने वाली बात होगी कि इस साल होने वाले लोकसभा चुनावों में इसका कितना असर होता है.

2019 के जंग की हो गई शुरुआत? 

साल के पहले दिन पहले केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने प्रेस को संबोधित किया था. मकसद था कांग्रेस पर वार. उन्होंने कहा कि 2010 में कांग्रेस ने CBI को हथियार बनाकर अमित शाह को फंसाया था. बिना किसी जांच के उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. इस प्रेस ब्रीफिंग के कुछ घंटे बाद ही पीएम मोदी का इंटरव्यू रिलीज हुआ. मोदी ने इस इंटरव्यू में पिछले साढ़े चार साल के कामकाज का लेखाजोखा देने के साथ जीएसटी, नोटबंदी, RBI गवर्नर उर्जित पटेल पर अपना पक्ष रखा. आखिरकार वह साल आ गया है जब यह देखना है कि देश में मोदी लहर काम करती है या फिर राहुल गांधी अपनी पुरानी छवि से उबरकर कांग्रेस को खोया सम्मान दिला पाते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi