S M L

पूरी दुनिया में मोदी लहर कायम, विश्व के तीसरे सबसे चर्चित नेता बने मोदी

वैश्विक रैंकिंग में लगातार ऊंचाई हासिल करते पीएम नरेंद्र मोदी तीसरे स्थान पर पहुंच गए हैं. जीआईए ग्लोबल पोल में अब तक किसी भारतीय प्रधानमंत्री को पहली बार यह स्थान मिला है

FP Staff Updated On: Jan 12, 2018 12:52 PM IST

0
पूरी दुनिया में मोदी लहर कायम, विश्व के तीसरे सबसे चर्चित नेता बने मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जलवा देश ही नहीं, विदेश में भी कायम है. दुनिया में मशहूर वैश्विक नेताओं पर कराए गए एक रिसर्च में नरेंद्र मोदी तीसरे पायदान पर हैं. पीएम मोदी से ऊपर जर्मन चांसलर और फ्रांस के राष्ट्रपति जमे हुए हैं. यह सर्वे गैलप इंटरनेशनल एसोसिएशन (जीआईए) और सी-वोटर ने मिलकर कराया है.

यह जानकर ताज्जुब होगा कि नेताओं के इस चार्ट में जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल टॉप पर बनी हुई हैं जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को पीएम मोदी से नीचे की रैंकिंग मिली है. वैश्विक रैंकिंग में दो साल पहले बराक ओबामा शीर्ष पर थे.

मशहूर हस्तियों में पुतिन भी

हालिया रिसर्च बताता है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन और पीएम नरेंद्र मोदी के पक्ष में लहर पहले से ज्यादा मजबूत हो रही है. जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति अपने पिछले समकक्ष बराक ओबामा की तुलना में काफी नीचे सरक गए हैं.

ठीक दो साल पहले बराक ओबामा की ख्याति काफी जबर्दस्त थी. 65 देशों में कराए गए एक सर्वे में 59 फीसद लोगों ने ओबामा के प्रति पॉजिटिव नजरिया पेश किया. दूसरी ओर ट्रंप इस मामले में काफी पिछड़ते हुए दिख रहे हैं. 31 फीसद लोग उनके पक्ष में हैं जबकि 58 फीसद लोग उन्हें नापसंद करते हैं.

ऐसे पहले पीएम हैं मोदी

वैश्विक रैंकिंग में लगातार ऊंचाई हासिल करते पीएम नरेंद्र मोदी तीसरे स्थान पर पहुंच गए हैं. जीआईए ग्लोबल पोल में अब तक किसी भारतीय प्रधानमंत्री को पहली बार यह स्थान मिला है. पुतिन के साथ भी ऐसा ही है. पिछले दो साल में पुतिन का नाम काफी आगे बढ़ा है. पहले जहां 33 फीसद लोगों ने उन्हें पसंद किया, आज यह आंकड़ा 43 फीसद तक पहुंच गया है.

अमेरिका (14 फीसद) और ईयू-यूरोप (28 फीसद) को छोड़ दें तो दुनिया के बाकी हिस्सों में पुतिन की ख्याति में बड़ा उछाल देखा गया है. उधर ट्रंप भले ही निचले पायदान पर हों, लेकिन भारत में इनकी खासी चर्चा है. इसके पीछे कारण नए साल के पहले दिन उनका पाकिस्तान को लेकर किया गया ट्वीट  माना जा रहा है.

इस सर्वे के मुताबिक, पीएम मोदी पाकिस्तान को सबसे ज्यादा नागवार गुजरे हैं, जहां पिछले दो साल में मोदी के खिलाफ लोगों की नाराजगी पहले से ज्यादा बढ़ गई है.

गैलप इंटरनेशनल एंड ऑफ इयर सर्वे (ईओवाई) हर साल कराया जाने वाला सर्वे है जिसे डॉ जॉर्ज गैलप की अध्यक्षता में 1977 में शुरू किया गया. तब से हर साल यह आयोजित होता है. इस साल गैलप इंटरनेशनल एसोसिएशन ने डब्लूआईएन (WIN) के साथ मिलकर 55 देशों में सर्वे कराया है.

सैंपल साइज और फिल्ड वर्क

पूरी दुनिया में 53,769 लोगों से इंटरव्यू लिया गया. हर देश में लगभग 1000 लोगों का एक रिप्रेजेंटिटिव सैंपल बना. कुछ लोगों का आमने-सामने इंटरव्यू (23 देश-24235 लोग) हुआ, कुछ का टेलीफोन से (13 देश-11656 लोग) या कुछ लोगों से ऑनलाइन (19 देश-17878 लोग) भी उनकी राय जानी गई. 95 प्रतिशत कॉन्फिडेंस लेबल पर गलती का मार्जिन 3 से 5 फीसद के बीच है. फिल्ड वर्क अक्टूबर 2017 से दिसंबर 2017 के बीच संपन्न हुआ.

जीआईए के मेंबर और सी-वोटर इंटरनेशनल ने मिलकर दक्षिण एशिया में सर्वे कराया.

डिसक्लेमरः गैलप इंटरनेशनल एसोसिएशन या इसके मेंबर वाशिंगटन डीसी स्थित गैलप इंक से संबंधित नहीं हैं. गैलप इंक अब गैलप इंटरनेशनल एसोसिएशन का सदस्य नहीं है. जीएआई चाहता है उसके सर्वे को गैलप इंटरनेशनल (न कि गैलप या गैलप इंक) के नाम से क्रेडिट मिले.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Test Ride: Royal Enfield की दमदार Thunderbird 500X

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi