S M L

पीएम मोदी बोले- देश की अर्थव्यवस्था को लैंडमाइन पर बिठाकर गई थी कांग्रेस

पीएम मोदी ने कहा, इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक सेवा देश के हर गरीब के लिए है, इस सेवा के जरिए बैंकों को गरीबों के दरवाजे पर पहुंचाया गया है

Updated On: Sep 01, 2018 06:43 PM IST

FP Staff

0
पीएम मोदी बोले- देश की अर्थव्यवस्था को लैंडमाइन पर बिठाकर गई थी कांग्रेस

पीएम मोदी ने शनिवार को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में 'इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक' (आईपीपीबी) को लॉन्च किया. देश भर में आईपीपीबी की 650 शाखाएं हैं और 3250 एक्सेस प्वाइंट हैं. इस कार्यक्रम की भव्यता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसमें 20 लाख लोग जुड़े हुए हैं. पूरे देश में मौजूद 1.55 लाख डाकघर 31 दिसंबर 2018 को इस प्रणाली से जुड़ेंगे.

इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा, 'ये सेवा देश के हर गरीब के लिए है. केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा आईआईटी से हैं इसलिए वह हर कार्यक्रम को टेक्नोलॉजी से जोड़ देते हैं. इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के माध्यम से देश के हर गरीब तक बैंक और बैंकिंग सुविधा का मार्ग खुल रहा है.'

पीएम ने कहा, 'इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की वजह से देश में एक बड़ा परिवर्तन होने जा रहा है. सरकार पहले ही जनधन योजना के तहत खाते खुलवा चुकी है और अब बैंक को हर गांव और गरीब के दरवाजे पर पहुंचाने का काम किया जा रहा है.'

'डाकिया अब चलता फिरता बैंक बन गया है. लोगों का विश्वास डाकिया के प्रति कभी नहीं डगमगाया. डाकिया और पोस्ट ऑफिस का हमारे जीवन में आज भी महत्वपूर्ण स्थान है, सैकड़ो लोग मुझे चिट्ठियां भेजते हैं, जब उन्हें पढ़ता हूं तो लगता है कि सामने आकर कोई अपनी बात कह रहा हो. इसलिए हम डाक व्यवस्था को सुधारने जा रहे हैं.'

पीएम ने टेक्नालॉजी का प्रयोग पोस्ट ऑफिस में करने की बात भी कही. उन्होंने कहा, 'टेक्नालॉजी को आधार बनाकर पोस्ट ऑफिस को विकसित करेंगे. हम इसे 21वीं सदी का सबसे शक्तिशाली सिस्टम बनाएंगे.'

8.2 फीसदी की दर से हो रहा भारतीय इकोनॉमी का विकास: पीएम मोदी

'इस सेवा से किसानों को बहुत लाभ मिलेगा. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को भी इससे बहुत प्रोत्साहन मिलेगा. तमाम योजनाओं की क्लेम राशि को घर बैठे ही लिया जा सकेगा. सुकन्या समृद्धि योजना के तहत बेटियों के नाम पर पैसा बचाने की मुहिम का भी उत्साह बढ़ाया जाएगा.'

इस मौके पर पीएम मोदी ने कांग्रेस पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा, 'आजादी के बाद से लेकर साल 2008 तक देश के बैंकों ने 18 लाख करोड़ की राशि ही लोन के तौर पर दी थी जबकि 2008 के बाद पिछली सरकार ने 52 लाख करोड़ रुपए बांट दिए.नामदारों ने फोन पर ही अमीर लोगों को कर्ज दिलवाने शुरु कर दिए थे.'

'जिनको लग रहा था कि नामदार परिवार की सहभागिता और मेहरबानी से उनको मिले लाखों-करोड़ रुपए हमेशा-हमेशा के लिए उनके पास रहेंगे, हमेशा इनकमिंग ही रहेगी, अब उनके खाते से आउटगोइंग भी शुरू हुई है.'

पीएम ने कहा, '12 बड़े डिफाल्टर, जिनको 2014 के पहले लोन दिया था, जिसके NPA की राशि करीब पौने 2 लाख करोड़ रुपए है, उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई और उसके नतीजे आज दिख भी रहे हैं.'

कांग्रेस पर हमलावर रुख अपनाते हुए पीएम ने कहा,'सरकार बनने के कुछ समय बाद ही हमें एहसास हो गया था कि कांग्रेस देश की अर्थव्यवस्था को एक लैंडमाइन पर बिठाकर गई है, उस समय देश और दुनिया के सामने अगर सच्चाई आती, तो ऐसा विस्फोट होता कि अर्थव्यवस्था संभल नहीं पाती. बहुत सावधानी के साथ इस संकट से देश को बाहर निकाला गया.'

पीएम ने कहा, '8.2 फीसदी की दर से हो रहा विकास भारत की अर्थव्यवस्था की बढ़ती हुई ताकत को दिखाता है. यह एक नए भारत की तस्वीर को सामने लाता है. ये सबकी मेहनत का नतीजा है.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi