S M L

पीयूष गोयल ने राहुल को कहा सीरियल लायर...गिनाए 8 झूठ

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने भारत और फ्रांस के बीच लड़ाकू विमान राफेल के सौदे के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तरफ से हो रहे हमले पर पलटवार किया है.

Updated On: Oct 12, 2018 08:50 PM IST

Amitesh Amitesh

0
पीयूष गोयल ने राहुल को कहा सीरियल लायर...गिनाए 8 झूठ

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने भारत और फ्रांस के बीच लड़ाकू विमान राफेल के सौदे के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तरफ से हो रहे हमले पर पलटवार किया है. पीयूष गोयल ने राहुल गांधी को ‘सीरियल लायर’ बताते हुए कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष केवल झूठ पर झूठ बोल रहे हैं. गोयल ने कहा कि ऐसा वही व्यक्ति कर सकता है जिसके पास कोई दूसरा मुद्दा नहीं हो.

दरअसल राहुल गांधी की तरफ से लगातार राफेल डील को लेकर हमले किए जा रहे हैं. बीजेपी और सरकार की तरफ से राहुल गांधी के आरोपों का जवाब भी दिया जा रहा है. लेकिन, बीजेपी और सरकार के मंत्री अब राहुल गांधी के आरोपों पर सिलसिलेवार ढंग से जवाब देकर उनके आरोपों को झूठ पर झूठ बताने की कोशिश कर रही है.

पीयूष गोयल ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से आठ झूठ के बारे में एक-एक कर पूछा. आइए जानते हैं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बारे में पीयूष गोयल ने कौन-कौन से आठ झूठ बोलने का आरोप लगाया ?

Rahul in Amethi

पहला झूठ- पीयूष गोयल ने आरोप लगाया कि राहुल गांधी ने पहले एक फ्रेंच मीडिया हाउस की रिपोर्ट को ट्विस्ट करने की कोशिश की, जिसे दसा एविएशन के सीईओ ने खारिज कर दिया. राहुल गांधी ने इस सौदे में जिस प्राइवेट कंपनी को शामिल करने के लिए दबाव बनाने का जिस फ्रेंच मीडिया संगठन की झूठी रिपोर्ट का हवाला दिया, राफेल बनाने वाली कंपनी और उसके सीईओ ने ही इसे खारिज कर दिया.

दूसरा झूठ- गोयल ने राहुल पर झूठ बोलने का दूसरा आरोप लगाया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले को अपने पक्ष में करने की उन्होंने साजिश की. जबकि सुप्रीम कोर्ट का साफ तौर पर कहना था कि राफेल सौदे की कीमत उसे नहीं जाननी है. सुप्रीम कोर्ट ने राफेल की कीमत सार्वजनिक करने से साफ इनकार कर दिया क्योंकि यह राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा मामला है.

तीसरा झूठ- राहुल गांधी ने रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी के बारे में बताया कि उसको राफेल सौदे पर सवाल उठाने के चलते ट्रांसफर कर दिया गया है, उसे छुट्टी पर भेज दिया गया है, जबकि वो अधिकारी ट्रेनिंग के लिए गया था. चौथा झूठ-राहुल गांधी की तरफ से फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के नाम से एक झूठ फैलाने की कोशिश की गई, जिसका खुलासा खुद पूर्व राष्ट्रपति फ्रांसवा ओलांद ने ही कर दिया. फ्रांस सरकार और एक कंपनी के बीच (quid pro quo) किसी चीज के बदले में फायदा पहुंचाने की बात भी झूठी साबित हुई.

पांचवा झूठ- राहुल गांधी की तरफ से फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के हवाले से यह आरोप लगाया गया कि पूर्व राष्ट्रपति ओलांद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में अनाप-शनाप शब्दों का इस्तेमाल किया. इसका खंडन खुद ओलांद ने कर दिया. बीजेपी ने राहुल गांधी के इस बयान को अपरिपक्व और बचकाना बताया है. गोयल ने कहा कि विश्व स्तर पर भी यह कदम भारत की छवि खराब करने वाला था, जिससे दोनों देशों के रिश्ते भी खराब हो सकते थे. बीजेपी ने इसे भविष्य के लिए भी बेहतर कदम नहीं बताया है.

छठा झूठ- राहुल गांधी ने संसद में कहा था कि वो व्यक्तिगत रुप से फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति से मिले थे और उन्होंने कहा था कि ऐसा कोई सीक्रेसी क्लॉज नहीं है. बीजेपी का कहना है कि राहुल गांधी के इस बयान से भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी. हालाकि इसके बाद खुद फ्रांस की सरकार को आगे आकर इस मुद्दे पर राहुल के कदम का खंडन करना पड़ा था.

पीयूष गोयल ने इस मुद्दे पर आरोप लगाया कि राहुल गांधी राफेल सौदे पर भारत की छवि खराब कर आगे के लिए मुश्किल खड़ी कर रहे हैं,जबकि सीक्रेसी क्लॉज की शुरुआत तो 2008 में मनमोहन सरकार ने ही की थी, जिसका जिक्र मनमोहन सिंह सरकार में रक्षा मंत्री रहे ए के एंटनी ने भी संसद में पूछे गए सवालों के जवाब में जिक्र किया था.

सातवां झूठ- राहुल गांधी ने राफेल की अलग-अलग कीमत बताकर देश की जनता को गुमराह करने की असफल कोशिश भी की. राहुल गांधी महज एक एयरक्राफ्ट और एक फुलीलोडेड एयरक्राफ्ट की कीमतों की तुलना कर रहे हैं. गोयल ने इस तरह की तुलना को बीज से बगीचे की तुलना बताया. दरअसल बीजेपी और सरकार का कहना है कि राहुल गांधी केवल एयरक्राफ्ट की कीमत से हर उपकरण से लैस एयरक्राफ्ट की तुलना कर गलत मिसाल पेश कर रहे हैं.

आठवां झूठ- कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल सौदे की डील मामले में कैबिनेट कमिटी ऑन डिफेंस को लूप में नहीं लेने का आरोप लगाया है. जबकि ऐसा कभी न ही हुआ है और न ही हो सकता है. सरकार हमेशा सभी प्रकिया को पूरा कर ही इस तरह की डील करती है.

Piyush Goyal

बीजेपी और सरकार की तरफ से राहुल गांधी के ये आठ झूठ उजागर किए गए हैं. बीजेपी की रणनीति है कि अब इन सभी मुद्दों पर पलटवार कर राहुल गांधी को कठघरे में खड़ा किया जाए, जिससे उनका बिना तथ्य के सभी आरोपों को उजागर किया जा सके. केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की तरफ से राहुल के आठ झूठ का जिक्र करना बीजेपी की उसी रणनीति का हिस्सा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi