S M L

धार्मिक, सांप्रदायिक आंदोलनों के खिलाफ एकजुट रही केरल की जनता: राज्यपाल

बजट पूर्व दिए अपने भाषण में राज्यपाल पी सथशिवम ने कहा कि 2017 में केरल के खिलाफ कुछ सांप्रदायिक संगठनों ने देश के अलग-अलग हिस्सों में महीने भर तक अभियान चलाया

FP Staff Updated On: Jan 22, 2018 05:30 PM IST

0
धार्मिक, सांप्रदायिक आंदोलनों के खिलाफ एकजुट रही केरल की जनता: राज्यपाल

केरल के राज्यपाल पी सथशिवम ने सोमवार को राज्य विधानसभा में अपने बजट पूर्व दिए भाषण में कहा कि वर्ष 2017 में केरल की धर्मनिरपेक्ष परंपराओं पर कई हमले हुए हैं.

उन्होंने कहा कि देश के बेहतर कानून और व्यवस्था वाले राज्यों की सूची में होने के बावजूद, केरल के खिलाफ कुछ सांप्रदायिक संगठनों ने देश के अलग-अलग हिस्सों में महीने भर तक अभियान चलाया.

राज्यपाल ने कहा, 'पिछले एक साल के दौरान, हमारे राज्य की धर्मनिरपेक्ष परंपराओं पर आलोचनात्मक हमले हुए हैं. हमारी धर्मनिरपेक्ष उपलब्धियों और कानून-व्यवस्था की स्थिति पर संदेह किया गया. लेकिन केरल की जनता ने इस दौरान एकजुट होकर हमारी परंपराओं और हासिल उपलब्धियों का बचाव किया'. पी सथशिवम ने कहा केरल के लोगों ने सामूहिक रूप से इस अभियान के लिए हैशटैग दिखाया.

राज्यपाल ने कहा कि 'कानून और व्यवस्था बेहतर लागू करने के मामले में केरल की पहचान देश में एक बार फिर से बनी है. बेहतर जीवन स्तर की रैंकिंग में केरल टॉप पर है.'

उन्होंने कहा कि हमारे राज्य में एक भी सांप्रदायिक दंगा नहीं हुआ है.

राज्यपाल ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी को अनुचित तरीके और समय में लागू करने का परिणाम अर्थव्यवस्था में गिरावट और बेरोजगारी के तौर पर सामने आया है.

राज्यपाल पी सथशिवम ने कहा कि बीजेपी और आरएसएस केरल में दाखिल होने की हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं. इसके लिए राज्य में कई अभियान भी चलाए गए हैं. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष कुमन्नम राजशेखरन ने भी एक राज्यव्यापी यात्रा निकाला था, इस दौरान 'लाल आतंकवा' और 'जिहादी आतंक' के नारे गूंजे थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
कोई तो जूनून चाहिए जिंदगी के वास्ते

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi