S M L

पटना यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव: पहली बार अध्यक्ष पद पर JDU का कब्जा, काम कर गई प्रशांत किशोर की रणनीति

छात्र जेडीयू के मोहित प्रकाश ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के अभिनव को 1200 से अधिक मतों से मात दी है. कोषाध्यक्ष के रूप में छात्र जेडीयू के कुमार सत्यम चुने गए हैं

Updated On: Dec 06, 2018 11:05 AM IST

FP Staff

0
पटना यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव: पहली बार अध्यक्ष पद पर JDU का कब्जा, काम कर गई प्रशांत किशोर की रणनीति

पटना यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनावके सेंट्रल पैनल के पांचों सीटों के परिणाम आ गए हैं. जेडीयू ने अध्यक्ष और कोषाध्यक्ष समेत दो सीटों पर जीत दर्ज की है. जबकि एबीवीपी ने तीन सीटों पर कब्जा जमाया है. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के खाते में महासचिव, संयुक्त सचिव और उपाध्यक्ष पद गया है. यह पहली बार है कि पटना यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव का अध्यक्ष जेडीयू से चुना गया हो.

छात्र जेडीयू के मोहित प्रकाश ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के अभिनव को 1200 से अधिक मतों से मात दी है. कोषाध्यक्ष के रूप में छात्र जेडीयू के कुमार सत्यम चुने गए हैं.

एबीवीपी की अंजना सिंह उपाध्यक्ष चुनीं गई हैं. उन्होंने छात्र जेडीयू के आशीष पुष्कर को 400 वोटों से हराया है. वहीं मणिकांत मणि ने 300 मतों के अंतर से महासचिव के पद पर जीत दर्ज की है. संयुक्त सचिव के रूप में एबीवीपी के राजा रवि ने जीत हासिल की है.

मतगणना में देरी को लेकर भड़क गए थे छात्र

इससे पहले साइंस कॉलेज में पटना छात्रसंघ चुनाव की मतगणना देर से शुरू होने से भड़के छात्रों ने देर रात जमकर हंगामा और पथराव किया. मीडियाकर्मियों को रोके जाने से भी छात्र नाराज थे. पथराव के बाद पुलिस ने मोर्चा संभाला और उग्र छात्रों को साइंस कॉलेज गेट के पास से खदेड़ने के लिए लाठीचार्ज किया.

छात्रों ने पटना यूनिवर्सिटी के वीसी के खिलाफ नारेबाजी भी की. छात्रों का आरोप था कि विवि प्रशासन जानबूझकर मतगणना कराने में देरी कर दी. गड़बड़ी करने के लिए मीडियाकर्मियों को अंदर जाने से रोका गया.

प्रशांत किशोर का मामला भी रहा था सुर्खियों में

छात्रसंघ चुनाव से पहले सोमवार को पटना यूनिवर्सिटी पहुंचे जेडीयू उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर की गाड़ी पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सदस्यों ने हमला बोल दिया था, जिसके बाद वहां का माहौल काफी गरम हो गया था.

किशोर यूनिवर्सिटी के कुलपति से मिलने गए थे. इसकी खबर और कुछ तस्वीरें लीक हो गईं, जिसके बाद कुछ छात्रों ने वीसी के आवास का घेराव कर लिया था. जब प्रशांत किशोर उनके घर से निकले तो एबीवीपी के कुछ छात्रों ने उनकी कार पर पत्थर फेंके. इसके बाद मौके पर मौजूद पुलिस ने ABVP के कुछ कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया.

दरअसल, किशोर की वीसी की मुलाकात पर बीजेपी के विधायकों ने आरोप लगाया है कि वो पटना यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ चुनाव को प्रभावित करवाना चाहते थे. जेडीयू के प्रदेश प्रवक्ता संजय सिंह ने प्रशांत किशोर का बचाव करते हुए कहा कि वे छात्र संघ चुनाव से जुड़े मामले को लेकर नहीं, बल्कि कुलपति से अनुमति लेकर उस यूनिवर्सिटी में प्रस्तावित भूकंप प्रबंधन केंद्र को लेकर बातचीत करने गए थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi