S M L

नाराजगी है तो वजह भी होगी, यूं ही कोई अपनों से नाराज नहीं होता: शत्रुघ्न सिन्हा

सिन्हा ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बेहतरीन इंसान हैं लेकिन योगी कुछ बदले-बदले से नजर आते हैं

Updated On: Jun 24, 2018 05:19 PM IST

FP Staff

0
नाराजगी है तो वजह भी होगी, यूं ही कोई अपनों से नाराज नहीं होता: शत्रुघ्न सिन्हा
Loading...

बालीवुड सुपरस्टार और बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा लंबे वक्त से अपनी पार्टी से नाराज चल रहे हैं. शत्रुघ्न सिन्हा का मोदी सरकार और पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर निशाना साधना अब आम बात हो चुकी है, लेकिन अब तक इस बात का जवाब नहीं मिल पाया कि आखिर बिहारी बाबू अपनी पार्टी से नाराज क्यों हैं?

हाल ही में न्यूज़ 18 हिन्दी से बातचीत करते हुए सिन्हा ने राजनीति से जुड़े कई खुलासे किए. बीजेपी से नाराजगी के सवाल पर सिन्हा ने कहा कि नाराजगी है तो इसके पीछे कोई ना कोई वजह भी होगी, यूं ही कोई अपनों से नाराज नहीं होता. पार्टी नेतृत्व से नाराज़गी जताते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि बिहार में चुनाव प्रचार हो या कोई महत्वपूर्ण कार्यक्रम उन्हें कभी नहीं बुलाया जाता, ऐसे में उन्हें बुरा तो लगेगा ही.

मोदी बेहतरीन इंसान जबिक योगी बदले-बदले से नजर आते हैं 

सिन्हा ने हालांकि प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते हुए उन्हें बेहतरीन इंसान बताया और कहा कि वह अपने बेशकीमती वक्त निकालकर उनके बेटे की शादी में शामिल होने के लिए मुंबई आए. शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री के साथ तमाम गलतफहमियों को दूर करने की कोशिश की, लेकिन कुछ लोगों की वजह से ऐसा नहीं हो पाया.

इसके साथ ही उन्होंने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर भी निशाना साधा. सिन्हा ने कहा कि योगी आदित्यनाथ उनके अच्छे मित्र हैं. चुनाव के दौरान वह खासतौर पर उनका प्रचार करने के लिए गए थे, लेकिन अब योगी भी बदले-बदले से नजर आते हैं. उन्होंने कहा कि वो नहीं जानते कि योगी किस बात से नाराज हैं.

बीजेपी पहली और आखिरी पार्टी होगी

इस दौरान शत्रुघ्न सिन्हा ने इस बात से भी इनकार किया कि वह बीजेपी छोड़ने की तैयारी में हैं. उन्होंने बीजेपी को अपनी पहली और आखिरी पार्टी बताया. सिन्हा ने कहा कि वह बीजेपी में तब से हैं, जब पार्टी के मात्र 2 सांसद थे. ऐसे में पार्टी को छोड़ने का सवाल ही पैदा नहीं होता. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर पार्टी उन्हें निकालती है तो उन्हें दुख जरूर होगा, लेकिन वे पार्टी के फैसले को चुनौती नहीं देंगे. उन्होंने कहा विवशता आती है तो रास्ते निकलते हैं.

लालू यादव की पार्टी से लोकसभा इलेक्शन के लिए मिले ऑफर के बारे में उन्होंने कहा, 'देखिए लालू यादव एक लोकप्रिय नेता हैं, हालांकि इस वक्त वह सजा भुगत रहे हैं, लेकिन लोग कहते हैं कि उन्हें चारा घोटाले में फंसाया गया है. क्या कोई मुख्यमंत्री 86 लाख या एक करोड़ का गबन करेगा? अगर मुख्यमंत्री ने ऐसा किया तो उस वक्त के डीएम साहब क्या कर रहे थे? हालांकि इस मामले में कोर्ट का फैसला आ गया है और हम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं, लेकिन इस बात को नकारा नहीं जा सकता कि लालू और उनके परिवार की बढ़ती लोकप्रियता किसी तूफान से कम नहीं है. लालू यादव के बेटे तेजस्वी के पीछे युवा पागल हैं. जबरदस्त क्रेज है तेजस्वी का. तेजस्वी कहते हैं कि आप हमारे परिवार के भी गार्जियन हैं और हमारी पार्टी के भी, आप पार्टी संभालिए. हालांकि हम और लालू यादव लंबे समय से पारिवारिक मित्र हैं, लेकिन हमने अभी कोई फैसला नहीं लिया क्योंकि फैसला लेने के लिए यह सही वक्त नहीं है.”

बीजेपी के लिए खतरे की घंटी है विपक्षी एकता

2019 में बीजेपी के सामने विपक्ष की एकजुटता पर शत्रुघ्न सिन्हा कहते हैं, 'मैं कोई ज्योतिष नहीं हूं, लेकिन यह बीजेपी के लिए खतरे की घंटी है. अरविंद केजरीवाल के प्रदर्शन के दौरान जो चार राज्यों के मुख्यमंत्री समर्थन में आए वह केजरीवाल का समर्थन कम, विपक्ष की एकजुटता ज्यादा है. यह बीजेपी के लिए खतरा है.'

बिहार की पटना साहिब सीट से बीजेपी सांसद शत्रुघ्न अपनी पार्टी को सलाह देते हुए कहते हैं, 'अब राष्ट्रीय अध्यक्ष को पुराने गिले-शिकवे भूल बीजेपी को एकजुट करना पड़ेगा. आडवाणी जी से मिलें उन्हें गले लगाएं. मुरली मनोहर जोशी हो या फिर अरुण शौरी, यशवंत सिन्हा इन सब दिग्गजों को क्यों दूर किया हुआ है? अब वक्त है कि हम आपस के गिले शिकवे भूल एकजुट होकर विपक्ष का सामना करें क्योंकि विपक्ष की बढ़ती एकजुटता खतरे की घंटी है.'

शत्रुघ्न सिन्हा ने नरेंद्र मोदी को फिटनेस के लिए योगा मंत्र देने के लिए बधाई देते हुए कहा कि जब भारत का युवा चुस्त-दुरुस्त रहेगा तभी देश आगे बढ़ेगा.

(न्यूज18 के लिए शिखा धारिवाल की रिपोर्ट)

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi