S M L

संसद LIVE: मनमोहन पर साजिश के आरोप के मुद्दे पर हंगामा, राज्यसभा आज के लिए भंग

इसके अलावा राज्यसभा में शरद यादव की सदस्यता रद्द किए जाने के मुद्दे पर भी विपक्ष ने हंगामा किया

Updated On: Dec 15, 2017 03:50 PM IST

FP Staff

0
संसद LIVE: मनमोहन पर साजिश के आरोप के मुद्दे पर हंगामा, राज्यसभा आज के लिए भंग

संसद का शीतकालीन सत्र शुरू हो चुका है. पीएम नरेंद्र मोदी ने नवनियुक्त मंत्रियों का लोकसभा और राज्यसभा में परिचय कराया. इसके बाद लोकसभा को 18 दिसंबर तक के लिए स्थगित कर दिया गया.

वहीं राज्यसभा को पहले ढाई बजे तक के लिए स्थगित किया गया फिर हंगामे की वजह से दिनभर के लिए भंग कर दिया गया. कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने पीएम द्वारा पूर्व-पीएम मनमोहन सिंह पर पाकिस्तान के साथ मिलकर साजिश करने के आरोप के मुद्दे को उठाया. इसके बाद जोरदार हंगामा होने लगा.

इससे पहले विपक्षी सदस्य सदन के वेल में आ गए और शरद यादव और अली अनवर की सदस्यता रद्द किए जाने को लेकर हंगामा करने लगे.

इससे पहले पीएम मोदी ने सत्र के शुरू होने से पहले मीडिया से बात करते हुए यह उम्मीद जताई कि यह सत्र फलदायक होगा और सदस्य सकारात्मक सोच के साथ इसमें भाग लेंगे. इससे से लोकतंत्र को मजबूती मिलेगी. उन्होंने ग्लोबल वार्मिंग पर चिंता जताते हुए कहा कि आम तौर पर सर्दी दिवाली से शुरू हो जाती है पर ग्लोबल वार्मिंग के कारण सर्दी पूरी तरह आई नहीं है.

इसके अलावा आईएनएलडी के सांसद दुष्यंत चौटाला अलग अंदाज में संसद भवन तक ट्रैक्टर से पहुंचे.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पहली बार ऐसा हो रहा है कि एक प्रधानमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री और उपराष्ट्रपति पर पाकिस्तान के साथ मिल कर गुजरात चुनाव के लिए साजिश करने का आरोप लगाया है. इसका जवाब पीएम को संसद में देना होगा. कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खडगे ने कहा कि कांग्रेस सकारात्मक बहस के पक्ष में है लेकिन सत्ता पक्ष को वैसा माहौल बनाना चाहिए और विपक्ष का सम्मान करना चाहिए.

कई जरूरी मुद्दों पर होगी चर्चा

सरकार ने ये साफ कर दिया है कि करीब 25 बिल लोकसभा में पेश किए जाएंगे, जिसमें फाइनेंशियल इररेगुलैरिटी बिल और मुस्लिम महिला शादी कानून जैसे अहम बिल शामिल हैं. संसद सत्र से पहले गुरुवार को सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई जिसमें पीएम ने देशभर में लोकसभा और विधानसभा चुनाव को एक साथ कराने की जरूरत का भी जिक्र किया.

करीब 25 बिल लोकसभा में लाए जाएंगे और 39 बिल राज्यसभा में जो लंबित पड़े हैं उनको पास कराने की कोशिश की जाएगी. इसमें से ट्रिपल तलाक यानि तलाक-ए-बिद्दत को संज्ञेय और गैर-जमानती अपराध बनाने वाला बिल कैबिनेट की बैठक में मंजूरी के लिए लाया जाएगा. इस बिल में तीन तलाक देने पर तीन साल तक की सजा का प्रावधान है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi