S M L

विपक्ष के विरोध से बजट सत्र के हंगामेदार होने की संभावना

मंगलवार से बजट सत्र की शुरुआत

Updated On: Jan 31, 2017 08:31 AM IST

FP Staff

0
विपक्ष के विरोध से बजट सत्र के हंगामेदार होने की संभावना

मंगलवार से बजट सत्र शुरू हो रहा है. नोटबंदी और पहले बजट लाए जाने के मुद्दे पर इस सत्र के हंगामेदार होने की आशंका है. बजट सत्र से पहले ही विपक्ष के संकेतों से ऐसा लगता है कि सरकार के लिए मुश्किलें पैदा होंगी.

सत्र से पहले सरकार के बुलाए सर्वदलीय बैठक में कांग्रेस ने साफ कर दिया कि अगर सरकार बजट में चुनावी राज्यों में लोकलुभावन घोषणाएं करती हैं तो वो उसका विरोध करेंगे.

हालांकि प्रधानमंत्री मोदी ने पहले ही विपक्ष से संसद चलाने में सहयोग की अपील की है. उन्होंने कहा है कि सरकार और विपक्ष के बीच कुछ मतभेद हो सकते हैं लेकिन संसद महापंचायत है, इसे सुचारु तौर पर काम करना चाहिए.

टीएमसी और बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने सर्वदलीय बैठक में हिस्सा ही नहीं लिया. इससे साफ है कि इनका विरोध जारी रहेगा.

संसद का पहला सत्र सिर्फ 8 दिन का होगा और 9 फरवरी तक चलेगा.

कांग्रेस का कहना है कि 1 फरवरी को बजट लाना गैरलोकतांत्रिक है, 2012 में यूपीए शासन के दौरान चुनावों की वजह से ही बजट सत्र को आगे खिसका दिया गया था.

सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने भी बैठक में कहा कि सरकार को बजट वक्त से पहले नहीं बुलाना चाहिए था, क्योंकि अर्थव्यवस्था के पूरे आंकड़ों को आने में वक्त लगता है. पहले बजट पेश करने से सही आकलन नहीं हो पाएगा.

इस पर संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट और चुनाव आयोग ने इस विषय पर पहले ही अपना फैसला सुना दिया है. अनंत कुमार ने कहा, 'बजट इस साल वैसे ही पेश किया जाएगा जैसे पहले किया जाता था.'

वित्तमंत्री अरुण जेटली ने भी बजट पहले पेश करने के फैसले का बचाव किया. उन्होंने कहा कि कैबिनेट ने छह महीने पहले ही ये फैसला कर लिया था.

बजट सत्र के साथ ही पांच राज्यों के चुनाव की शुरुआत होगी. इस दौरान सत्र में हंगामे के आसार बढ़ जाते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi