S M L

वायुसेना की जरूरत को नकार कर मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया: चिदंबरम

पी चिदंबरम ने सवाल किया कि जब वायुसेना को 126 विमानों की जरूरत थी तो सरकार सिर्फ 36 राफेल विमान क्यों खरीद रही है?

Updated On: Jan 18, 2019 02:13 PM IST

FP Staff

0
वायुसेना की जरूरत को नकार कर मोदी सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया: चिदंबरम

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार ने वायुसेना की 126 लड़ाकू विमानों की जरूरत को नकार कर राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया है.

उन्होंने यह भी सवाल किया कि जब वायुसेना को 126 विमानों की जरूरत थी तो सरकार सिर्फ 36 राफेल विमान क्यों खरीद रही है? राफेल विमान सौदे से जुड़ी एक खबर का हवाला देते हुए चिदंबरम ने ट्वीट किया, 'एक अखबार में आए नए तथ्यों और खुलासों के आलोक में, गंभीर और बड़ा सवाल ये है कि सरकार ने 36 राफेल विमान ही क्यों खरीदे, जबकि वायु सेना को 126 विमानों की जरूरत थी?' उन्होंने आरोप लगाया, 'सरकार ने वायु सेना की 7 स्क्वाड्रन (126 विमान) की सख्त जरूरत को नकार कर राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया है.'

अरुण जेटली ने आलोचकों पर साधा निशाना

इससे पहले मोदी सरकार के आलोचकों को ‘बात बात पर विरोध करने वाला’ (Compulsive Contrarians) बताते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को उन पर झूठ गढ़ने और एक संप्रभु निर्वाचित सरकार को कमजोर करके लोकतंत्र को बर्बाद करने का आरोप लगाया.

मेडिकल चेकअप के लिए अचानकर अमेरिका गए जेटली ने एक फेसबुक पोस्ट में कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी और असहमत होने का अधिकार लोकतंत्र का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, न कि झूठ, बर्बादी और संस्थाओं की तबाही.

मंत्री ने उन लोगों पर निशाना साधा जो मानते हैं कि ‘यह सरकार कुछ अच्छा नहीं कर सकती.’ उन्होंने कहा कि सकारात्मक मानसिकता और राष्ट्रीय शक्ति से राष्ट्र का निर्माण होता है ना कि ‘बात बात पर विरोध करने वालों से.’

(भाषा से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi