S M L

विपक्षी एकता कुछ नहीं बल्कि ‘बिना दूल्हे की बारात’ है: शिवराज चौहान

शिवराज चौहान ने कहा, ‘विपक्ष में कोई नेता नहीं है जो मोदी जी का मुकाबला कर सके. हम सभी उनके साथ खड़े हैं और यह चुनाव जीतेंगे. आज, मोदी ना केवल मेरे बल्कि पूरे देश के नेता हैं.’

Updated On: Jan 27, 2019 10:11 PM IST

Bhasha

0
विपक्षी एकता कुछ नहीं बल्कि ‘बिना दूल्हे की बारात’ है: शिवराज चौहान

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विपक्षी एकता को ‘बिना दूल्हे की बारात’ जैसा बताते हुए कहा कि विपक्षी दलों के पास एक भी ऐसा नेता नहीं है जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुकाबला कर सके.

हाल ही में बीजेपी के उपाध्यक्ष नियुक्त हुए चौहान ने कहा कि मोदी एक लोकप्रिय नेता हैं और पार्टी उनके नेतृत्व में 2019 का आम चुनाव जीतेगी.

चौहान ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘विपक्षी एकता कुछ नहीं बल्कि ‘बिना दूल्हे की बारात है, इसका कोई नेता नहीं है.’ वे अपना-अपना अस्तित्व बचाने के लिए एक साथ आ रहे हैं.’

उन्होंने कहा कि विपक्ष के पास मोदी का मुकाबला करने के लिए कोई नेता नहीं है. सभी बीजेपी नेता पार्टी की जीत सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री के साथ खड़े हैं.

चौहान ने कहा, ‘विपक्ष में कोई नेता नहीं है जो मोदी जी का मुकाबला कर सके. हम सभी उनके साथ खड़े हैं और यह चुनाव जीतेंगे. आज, मोदी ना केवल मेरे बल्कि पूरे देश के नेता हैं.’

भविष्य में बीजेपी में उनकी भूमिका के बारे में पूछे जाने पर चौहान ने कहा कि पार्टी नेतृत्व जो भी उनके लिए तय करेगा वह करेंगे लेकिन साथ ही कहा कि वह भावनात्मक रूप से मध्य प्रदेश से जुड़े हुए हैं.

उन्होंने कहा, ‘बीजेपी मेरे लिए जो भी तय करेगी मैं करूंगा लेकिन मेरा मध्य प्रदेश से भावनात्मक तौर पर लगाव है. एक तरीके से मैं मध्य प्रदेश की सेवा करता रहूंगा.’

यह पूछे जाने पर कि क्या वह राष्ट्रीय राजनीति में आएंगे, इस पर चौहान ने कहा कि पार्टी प्रमुख और प्रधानमंत्री उनके लिए जो भी फैसला करेंगे वह उसे अपनी पूरी क्षमताओं के साथ करेंगे. मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने से पहले तक चौहान राज्य में विदिशा से पांच बार लोकसभा सदस्य रहे थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi