S M L

केरल का सालाना बजट लीक, विपक्ष का सदन से वॉक आउट

हंगामे के बाद मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने सदन को भरोसा दिया कि, आरोप सही पाए जाने पर इसकी जांच होगी

Updated On: Mar 03, 2017 09:25 PM IST

FP Staff

0
केरल का सालाना बजट लीक, विपक्ष का सदन से वॉक आउट

केरल विधानसभा में शुक्रवार को बजट पेश करने के दौरान जमकर हंगामा हुआ. विपक्षी कांग्रेस ने आरोप लगाया कि बजट पेश किए जाने से पहले ही टीवी चैनलों और सोशल मीडिया पर आ चुका है.

सदन में वित्त मंत्री थॉमस इसाक के लिए ये सामान्य दिन की तरह था लेकिन नेता प्रतिपक्ष रमेश चेन्निथला ने ऐसा रहने नहीं दिया. रमेश उन कागजातों को लहराते हुए देखे गए जिनके बारे में उनका दावा था कि ये बजट का लीक वो हिस्सा है, जिसे वित्त मंत्री अपने भाषण में पढ़ने वाले हैं.

सदन के अंदर हंगामेदार स्थिति को देखते हुए वित्त मंत्री को अपना बजट भाषण रोकना पड़ा. मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन को सदन को ये भरोसा देना पड़ा कि, आरोप अगर सही हैं तो इसकी जांच कराई जाएगी.

लेकिन विपक्ष का गुस्सा शांत नहीं हुआ और उन्होंने वित्त मंत्री के भाषण के दौरान उनके इस्तीफे की मांग करते हुए सदन से वॉक आउट किया.

पहले कभी नहीं हुआ

सदन में इसके बाद जो हुआ वो केरल विधानसभा के इतिहास में पहले कभी नहीं हुआ था. नेता विपक्ष रमेश चेन्निथला ने मीडिया रूम में अपना तैयार किया हुआ भाषण पढ़ा. मलयाली टीवी चैनलों ने इसका सीधा प्रसारण दिखाया. टीवी चैनलों ने इस दौरान स्क्रीन पर वित्त मंत्री के बजट भाषण को भी एक तरफ दिखाया. इससे राज्य सरकार के लिए काफी हास्यास्पद स्थिति बनी.

चेन्निथला ने कहा कि, ‘हमें बजट का वो हिस्सा वित्त मंत्री के पढ़कर पेश करने से पहले ही मिल गया है. अगर कोई इसे खुद अपने ही कार्यालय से लीक नहीं करे तो ये कैसे संभव है. बजट की अपनी एक गरिमा होती है जो अब खो चुकी है.’

हालांकि, सरकार का दावा है कि बजट के केवल मुख्य बिंदू लीक हुए हैं न कि पूरा बजट. ये 15 पन्नों का पीडीएफ कागजात है जो मीडिया संस्थानों तक पहुंचा. इनमें सरकार की ओर से पेश की जाने वाली हर योजना और उसके खर्च का ब्यौरा शामिल है.

बजट के लीक हिस्से को टीवी चैनल दिखाने लगे, विपक्ष ने इसे फौरन लपक लिया. पिनाराई विजयन सरकार के लिए ज्यादा नुकसानदायक बात ये रही कि पीडीएफ कागजाजों में बजट के कुल रकम का ब्यौरा दिया गया था. वित्त मंत्री के सदन के पटल पर बजट पेश करने से पहले ही इसमें कुल आमदनी, सरकारी खर्चे, राजस्व और वित्तीय घाटे की जानकारी लीक हो गई.

ताबूत में आखिरी कील

ई-मेल से मिले इन कागजातों में केवल प्रस्तावित टैक्स के बारे में जिक्र नहीं है. जो लेफ्ट (एलडीएफ) सरकार के ताबूत में आखिरी कील साबित होता. नाराज वित्त मंत्री ने विधानसभा में अपना भाषण हड़बड़ी में पूरा किया. उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष की इजाजत के बाद केवल बजट के मुख्य बिंदुओं को पढ़ा और बजट के बाकी हिस्सों को छोड़ दिया.

Kerala Congress

तिरुवनंतपुरम में यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता बजट की कॉपी जलाते हुए (फोटो: पीटीआई)

वित्त मंत्री थॉमस इसाक ने बाद में प्रेस रिलीज जारी कर कहा कि, 'बजट लीक नहीं हुआ है. मीडिया में जो कुछ आया है वो बजट के मुख्य बिंदू हैं, जिसे बजट भाषण के बाद मीडिया को देने के लिए तैयार किया गया था. इस बार इसे पहले ही दे दिया गया जो नहीं होना चाहिए था. इसकी जांच कराई जानी चाहिए'

विधानसभा में हुए इस पूरे घटनाक्रम से मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन काफी नाराज हैं. 2016 में राज्य की सत्ता में आने के बाद उनकी सरकार का जनता के लिए ये पहला पूर्णकालिक बजट था.

आने वाले दिनों में कांग्रेस, बीजेपी और इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग इस घटना के विरोध में रैलियां निकालने की तैयारी में है. इसके चलते केरल विधानसभा में आने वाले समय में बजट पर बहस के दौरान हंगामा और हल्ला मचने की पूरी संभावना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi