S M L

विरोधी नहीं चाहते कि मैं संसद में देशहित के मुद्दे उठाऊं: शरद

यादव ने कहा कि उनके विरोधी समाज के सभी वर्गों से जुड़े राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों को संसद में मजबूती से उठाने से उन्हें रोकने के लिए ये बाधाएं उत्पन्न कर रहे हैं

Updated On: Dec 16, 2017 03:39 PM IST

Bhasha

0
विरोधी नहीं चाहते कि मैं संसद में देशहित के मुद्दे उठाऊं: शरद

शुक्रवार को दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा शरद यादव की अर्जी ठुकराने के बाद, शनिवार को उन्होंने अपना मन हल्का किया. जेडीयू के पूर्व सांसद शरद यादव ने कहा कि उनके कुछ विरोधी नहीं चाहते हैं कि वह संसद में देशहित के मुद्दे उठा सकें. यादव को हाल ही में पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में राज्यसभा की सदस्यता से अयोग्य करार दिया गया था.

यादव ने कहा कि उनके विरोधी समाज के सभी वर्गों से जुड़े राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों को संसद में मजबूती से उठाने से उन्हें रोकने के लिए ये बाधाएं उत्पन्न कर रहे हैं. राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू द्वारा उच्च सदन में उनकी सदस्यता रद्द करने के बाद यादव ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर कर संसद के शीतकालीन सत्र में भाग लेने की अनुमति मांगी थी. कोर्ट ने शुक्रवार को उनकी इस मांग को ठुकराते हुए सदन की कार्यवाही में हिस्सा लेने की अनुमति नहीं दी.

अदालत के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए यादव ने ट्वीट कर कहा ‘संसद की सदस्यता से अयोग्य घोषित करने के मामले में न्यायपालिका के आदेश का सम्मान करते हुए मैं कहना चाहता हूं कि संसद में समाज के सभी वर्गों से जुड़े मुद्दे मजबूती से उठाने से मुझे रोकने के लिए मेरे विरोधी जिम्मेदार हैं.’

उल्लेखनीय है कि यादव ने राज्यसभा की सदस्यता से अयोग्य घोषित किए जाने के सभापति के फैसले को दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दी है. इसके लिए दायर याचिका में उन्होंने अदालत का फैसला आने तक संसद की कार्यवाही में भाग लेने की भी अनुमित मांगी थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi