S M L

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं को भी जाने की इजाजत होनी चाहिए: सुप्रीम कोर्ट

केरल के इस मशहूर मंदिर में 10 से 50 साल तक की महिलाओं के प्रवेश की इजाजत नहीं है

FP Staff Updated On: Jul 18, 2018 04:28 PM IST

0
सबरीमाला मंदिर में महिलाओं को भी जाने की इजाजत होनी चाहिए: सुप्रीम कोर्ट

पूजा करना महिलाओं का संवैधानिक अधिकार है और यह किसी कानून का मोहताज नहीं है. सबरीमाला मंदिर में महिलाओं की एंट्री पर रोक से जुड़े एक मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह कहा है. केरल के इस मशहूर मंदिर में 10 से 50 साल तक की महिलाओं के प्रवेश की इजाजत नहीं है.

इस मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा, 'हर महिला को भी भगवान ने ही बनाया है और मंदिर में पूजा को लेकर उनके साथ भेदभाव क्यों होना चाहिए.'

क्या है मौजूदा नियम?

फिलहाल इस मंदिर में 10 साल से लेकर 50 साल की महिलाओं का प्रवेश वर्जित है. इस प्रतिबंध पर ही सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुवाई में पांच जजों की एक बेंच इस मामले की सुनवाई कर रहे हैं. इस बेंच में जस्टिस आरएफ नरिमन, एएम खानविल्कर, डीवाई चंद्रचूड़ और इंदू मल्होत्रा शामिल हैं.

पिछले साल अक्टूबर में सुप्रीम कोर्ट ने यह मामला 'महत्वपूर्ण' मानते हुए संवैधानिक बेंच को सौंप दिया था. सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई के दौरान सरकार ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि महिलाओं को भी मंदिर में दाखिल होने की इजाजत देनी चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi