S M L

मध्यस्थता का उद्देश्य न्याय देना है: जस्टिस सीकरी

मध्यस्थता के पीछे की वजह सिर्फ अदालतों का बोझ कम करना नहीं है बल्कि न्याय प्रदान करना और कानून के अनुसार काम करना भी है

Updated On: Feb 06, 2018 09:32 PM IST

Bhasha

0
मध्यस्थता का उद्देश्य न्याय देना है: जस्टिस सीकरी

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस ए के सीकरी ने कहा है कि मध्यस्थता का उद्देश्य न्याय प्रदान करना और कानून के अनुसार कार्य करना है. यह सिर्फ अदालतों का बोझ कम करने के लिए नहीं है.

अंतरराष्ट्रीय वैकल्पिक विवाद निपटारा सम्मेलन को संबोधित करते हुए जस्टिस सीकरी ने कहा कि न्याय का मतलब हर व्यक्ति को अपनी बात रखने का अवसर प्रदान करना और फिर सर्वश्रेष्ठ फैसला करना है.

उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति को उसका बकाया देना है.

जस्टिस सीकरी ने हाल में हुए सम्मेलन में कहा, ‘मध्यस्थता के पीछे की वजह सिर्फ अदालतों का बोझ कम करना नहीं है बल्कि न्याय प्रदान करना और कानून के अनुसार काम करना भी है.’ उन्होंने कहा कि मध्यस्थता क्या सही है इस बारे में बात करती है, जबकि न्यायिक व्यवस्था कौन सही है इस बारे में बात करती है.

इस सम्मेलन का आयोजन माध्यम, द काउन्सिल फॉर कन्फ्लिक्ट रिजॉल्यूशन ने किया था. इसमें इनोवेटिव जस्टिस के जरिए सेतु निर्माण के विषय पर जोर दिया गया.

जस्टिस सीकरी के अतिरिक्त तीन दिवसीय सम्मेलन में सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस रोहिंटन फली नरीमन, शीर्ष अदालत के जस्टिस बी एस चौहान, दिल्ली उच्च न्यायालय की कार्यवाहक चीफ जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस राजीव शकधर, जस्टिस मनमोहन, जस्टिस जयंत नाथ और वरिष्ठ अधिवक्ता ए एस चंडियोक और अन्य ने हिस्सा लिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi