S M L

कुमारस्वामी के शपथ में 'एकता' तो दिखी लेकिन साथ चुनाव नहीं लड़ेंगी विपक्षी पार्टियां

देवगौड़ा ने साफ किया कि शपथग्रहण में छह गैर-बीजेपी पार्टियां भले शामिल हुईं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि 2019 में साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगी

Updated On: Jun 29, 2018 12:45 PM IST

Bhasha

0
कुमारस्वामी के शपथ में 'एकता' तो दिखी लेकिन साथ चुनाव नहीं लड़ेंगी विपक्षी पार्टियां

जनता दल (एस) के मुखिया एच डी देवगौड़ा ने कहा है कि एच. डी. कुमारस्वामी के शपथग्रहण में भले ही छह गैर-बीजेपी पार्टियों के नेता शामिल हुए हों लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वे 2019 के लोकसभा चुनाव में सभी राज्यों में साथ मिलकर लड़ेंगे.

उन्होंने हालांकि बीजेपी को रोकने के लिए जल्द से जल्द तीसरा मोर्चा बनाने की बात कही.

नवंबर-दिसंबर में लोकसभा चुनाव?

देवगौड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सत्तारूढ़ पार्टी की ओर से राज्यों में अपने कैडरों को साफ ‘संकेत’ है कि वे जल्द ही नवंबर-दिसंबर में लोकसभा चुनावों के लिए तैयार रहें. उन्होंने कहा, ‘यह जरूरी नहीं है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में कुमारस्वामी के शपथग्रहण समारोह में शामिल होने वाली पार्टियां सभी राज्यों में मिलकर लड़ेंगी.’

शपथ में संयुक्त मोर्चे का आगाज करते हुए कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, बीएसपी, आप, सीपीएम और टीडीपी के आला नेता पिछले महीने बेंगलूरू में कुमारस्वामी के शपथ समारोह में शामिल हुए थे.

देवगौड़ा ने कहा कि एसपी और बीएसपी आम चुनाव में उत्तर प्रदेश में चालीस-चालीस सीट साझा करने पर चर्चा कर रही हैं. उन्होंने कहा, ‘कर्नाटक में कांग्रेस के साथ कुछ मुद्दे होने के बावजूद हम उसके साथ मिलकर लड़ेंगे.’

देवगौड़ा ने पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस-जनता दल (एस) समन्वय समिति के अध्यक्ष सिद्धारमैया की उस बयान पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि मौजूदा कर्नाटक सरकार एक साल ही चलेगी. उन्होंने कहा, ‘यह उन्हें लगता है.’

सीट बंटवारे पर कोई बात नहीं

आगामी लोकसभा चुनाव के लिए सीट बंटवारे पर अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ है. ऐसी अफवाह है कि कर्नाटक में कांग्रेस 18 सीटों पर लड़ेगी और जनता दल (एस) को बाकी 10 सीट मिलेंगी. उन्होंने कहा, ‘मुद्दे पर अब तक कोई चर्चा नहीं हुई है ... कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और कुमारस्वामी चर्चा करेंगे और इसे अंतिम रूप देंगे.’

देवगौड़ा ने यह भी कहा कि उनकी पार्टी कर्नाटक में एक संसदीय सीट अपनी सहयोगी बीएसपी को देना चाहती है. ‘बदले में, मैं बीएसपी से कहूंगा कि वह उत्तर प्रदेश में एक सीट जेडीएस के महासचिव दानिश अली को दे. केरल में एलडीएफ हमें एक सीट देगा.’

उन्होंने कहा कि ‘आने वाले दिनों’ में वह गैर-एनडीए नेताओं से मिलेंगे. इस बात पर कि मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह एक ही समय पर चुनाव कराने का संकेत दे रहे हैं, देवगौड़ा ने कहा कि जल्द से जल्द तीसरा मोर्चा बनाना समय की मांग है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi