S M L

MP में कांग्रेस-BSP गठबंधन नहीं, दलित नेता को डिप्टी CM बनाएगी कांग्रेस

अगर मध्य प्रदेश में कांग्रेस और बीएसपी के बीच खिचड़ी पक रही होती तो फिर कांग्रेस चुनाव से ठीक पहले किसी दलित नेता को डिप्टी सीएम के लिए क्यों तैयार करती

FP Staff Updated On: Jun 22, 2018 10:53 AM IST

0
MP में कांग्रेस-BSP गठबंधन नहीं, दलित नेता को डिप्टी CM बनाएगी कांग्रेस

मध्य प्रदेश में कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के बीच गठबंधन होने की संभावना कम दिख रही है. यहां विधानसभा चुनाव होने में अभी 5 महीने बाकी हैं और कांग्रेस ने दलित कार्ड खेलते हुए उप-मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान कर दिया. सबसे बड़ी बात यह है कि पार्टी ने इस पद के लिए दलित नेता सुरेंद्र चौधरी का नाम आगे बढ़ाया है, जबकि मुख्यमंत्री के नाम पर अभी सस्पेंस बरकरार है.

कांग्रेस ने इस नाम का ऐलान तब किया है जब हाल में बीएसपी प्रमुख मायावती ने मध्य प्रदेश में गठबंधन के सवाल को सिरे से खारिज कर दिया. मायावती ने गठबंधन की संभावना से इनकार करते हुए कहा कि कांग्रेस के साथ उनकी कोई बात नहीं चल रही और अगले विधानसभा चुनाव में बीएसपी सभी 230 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

न्यूज 18 की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मध्य प्रदेश में कांग्रेस-बीएसपी गठबंधन होता है तो इसे 'खेल बदलने' वाली रणनीति मान सकते हैं क्योंकि इससे दोनों पार्टियां मिलकर दलित वोटों को आसानी से गोलबंद कर सकेंगी.

एक तरफ मायावती का ऐकला चलो का ऐलान और दूसरी तरफ कांग्रेस का किसी दलित नेता को डिप्टी सीएम के लिए तैयार करना, विधानसभा चुनावों से पहले किसी अलहदा सियासी गणित की आहट के तौर पर देखा जा रहा है. डिप्टी सीएम के लिए सुरेंद्र चौधरी के नाम का ऐलान किसी और ने नहीं बल्कि प्रदेश पार्टी के अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रभारी दीपक बाबरिया ने खुद किया है. उन्होंने कहा कि 'मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर दलितों को तरजीह दी जाएगी. इस आधार पर सुरेंद्र चौधरी इस पद के लिए बेहतर उम्मीदवार होंगे.'

बाबरिया ने एक कार्यक्रम में कहा कि जमुना देवी जिस तरह मध्य प्रदेश में डिप्टी सीएम बनाई गई थीं, उसी तरह प्रदेश में अगर कांग्रेस की सरकार बनी तो सुरेंद्र चौधरी डिप्टी सीएम हो सकते हैं.

जमुना देवी आदिवासी समुदाय से थीं जिन्हें मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता विपक्ष का ओहदा दिया गया था. बाबरिया ने न्यूज18 से यह भी कहा कि ये कांग्रेस पार्टी ही है जिसने देश को दलित राष्ट्रपति और दलित मुख्यमंत्री (मध्य प्रदेश) दिया.

कांग्रेस के इस ऐलान के साथ ही बीजेपी ने उस पर हमला बोला. पार्टी प्रवक्ता डॉ. हितेश वाजपेयी ने कहा, कांग्रेस ने दलितों का कितना अपमान किया है जो डिप्टी सीएम के लिए नाम की घोषणा की. चुनाव से पहले मुख्यमंत्री पद के लिए किसी दलित के नाम का ऐलान क्यों नहीं किया?

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi