विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

बिहार: नीतीश के फैसले को किसी ने कहा स्वार्थ तो किसी ने मौकापरस्त

नीतीश को भ्रष्टाचार के तथाकथित आरोप क्या महागठबंधन के समय नहीं मालूम थे?

FP Staff Updated On: Jul 27, 2017 07:20 PM IST

0
बिहार: नीतीश के फैसले को किसी ने कहा स्वार्थ तो किसी ने मौकापरस्त

बिहार का सियासी चेहरा पिछले कुछ ही घंटो में बहुत तेजी से बदल गया. नीतीश कुमार महागठबंधन से अलग होकर एक बार फिर सीएम बने हैं. महागठबंधन की सरकार से इस्तीफे के तुरंत बाद ही नीतीश कुमार को बीजेपी का साथ मिल गया. नीतीश कुमार के इस कदम को किसी ने स्वार्थ कहा तो किसी ने इसे मौकापरस्ती कहा.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मीडिया से की हुई बातचीत में भी कहा कि, नीतीश ने हमें धोखा दिया है. साथ ही राहुल ने ट्विटर पर भी नीतीश के कदम का विरोध किया है. उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव ने भी ट्विटर पर मजाक उड़ाया है.

राहुल गांधी ने ट्वीट किया है, 'अपने स्वार्थ के लिए आदमी कुछ भी कर जाता है- कोई नियम नहीं है, कोई credibility नहीं है, सत्ता के लिए कुछ भी कर देते हैं.'

राहुल ने अपने अगले ट्वीट में लिखा है, 'बिहार ने नितीशजी को anti communal लड़ाई लड़ने के लिए mandate दी, लेकिन नितीशजी अपनी personal politics के लिए उन्हीं लोगों से गले लग गए.'

अखिलेश यादव ने ट्विटर पर लिखा, 'ना ना करते, प्यार तुम्हीं से कर बैठे, करना था इंकार मगर इकरार तुम्हीं से कर बैठे.''

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने दैनिक जागरण अखबार में छपी एक खबर की तस्वीर लगाई है जिसमें लिखा है, 'मिट्टी में मिल जाएंगे पर भाजपा से नहीं मिलेंगे' ये बात नीतीश कुमार ने साल 2014 में कही थी.' इसके साथ रणदीप सुरजेवाला ने लिखा है, 'वक़्त-वक़्त की बात है. एक अवसरवाद के रोगी, दूसरे सत्ता के भोगी.'

कांग्रेस के वरिष्ट नेता शशि थरूर ने भी इस मामले पर कई ट्वीट किए हैं.

कांग्रेस के महासचिव दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया है, 'एक बार फिर से बिहार में राज्यपाल ने सरकारिया कमीशन और सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों का उल्लंघन किया है. Single largest party RJD को मौका नहीं दिया गया है. BJP का प्रजातंत्र में विश्वास ना पहले था ना अब है. इस कृत्य के लिए धिक्कार है.

सीपीआई(एम) नेता सीताराम येचुरी ने भी

लालू यादव ने ट्वीट किया,

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi