S M L

मिथिलांचल की राजनीति में आखिरकार हो गई नीतीश कुमार की एंट्री

जेडीयू लंबे समय से मिथिलांचल की राजनीति में खुद को स्थापित करने की कोशिश कर रही है

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Dec 24, 2017 08:44 PM IST

0
मिथिलांचल की राजनीति में आखिरकार हो गई नीतीश कुमार की एंट्री

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मिथिलांचल की राजनीति में एंट्री करने से खुद को रोक नहीं पाए. दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में नीतीश कुमार का शामिल होना यही इशारा करता है. इस मौके पर उन्होंने कहा कि मिथिला के विकास के बिना बिहार का विकास करना मुमकिन नहीं है.

नीतीश कुमार रविवार को दिल्ली में थे. मौका था अखिल भारतीय मिथिला संघ के 50 साल पूरे होने का. मिथिला की सांस्कृतिक और साहित्यिक परंपरा पर कई जाने माने लोगों ने अपने-अपने विचार रखे. इस अवसर पर नीतीश कुमार ने भी मिथिला की सांस्कृतिक और कलात्मक विषयों पर कई बातें कहीं.

क्या है नीतीश कुमार की रणनीति?

नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में जोर देकर कहा, 'जिस तरह बिहार के विकास के बिना देश का विकास संभव नही है, उसी प्रकार मिथिला के विकास के बिना बिहार का विकास संभव नही है.'

उन्होंने कहा, 'मिथिला की हर एक क्षेत्र मसलन कला, संस्कृति, साहित्य एवं इतिहास में समृद्ध परंपरा रही है. वे मिथिला के विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं. पूरे विश्व में मिथिला के खान-पान, कला, संस्कृति का प्रचार-प्रसार किया जाएगा. देश में ही नहीं विदेश में भी कला, संस्कृति, साहित्य के क्षेत्र में मिथिला की समृद्ध परंपरा रही है.'

गौरतलब है कि अखिल भारतीय मिथिला संघ के 50 साल पूरे होने पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को विशेष तौर पर आमंत्रित किया गया था. नीतीश कुमार भी इस अवसर को बड़े चालाकी और अपने ही अंदाज में भुना लिया.

जब पुरानी यादों में खो गए नीतीश कुमार 

समारोह में नीतीश कुमार ने अपने कुछ पुराने संस्मरण सुनाए. उन्होंने अपने इंजीनियरिंग छात्र जीवन और कृषि मंत्री कार्यकाल की कुछ मजेदार बातों का जिक्र किया. इस दौरान उन्होंने मैथिली में भी संबोधन किया. जिसके बाद पूरा हॉल तालियों से गूंज उठा. उन्होंने विद्यापति, अयाची मिश्रा और मंडन मिश्र के व्यक्तित्व पर भी खूब बात की.

नाीतीश कुमार ने कहा कि यह केवल मिथिला संघ का सम्मेलन नहीं है. यह मेरा भी सम्मेलन है. उन्होंने कहा कि वे इस कार्यक्रम के मेहमान नहीं बल्कि मेजबान हैं.

nitish01

मुख्यमंत्री श्री कुमार ने कहा कि मैथिल एवं मिथिला भाषी हर जगह हैं. उन्होंने कहा कि मिथिला के विकास में उनकी व्यक्तिगत अभिरुचि है. मिथिला के इलाके में दरभंगा एयरपोर्ट, पूर्णिया एयरपोर्ट बनाया जा रहा है. नीतीश कुमार ने कहा कि पटना हवाई अड्डे पर बनाए जा रहे नए टर्मिनल भवन के इंटीरियर में मिथिला की पेंटिंग नजर आएगी. मिथिला पेंटिंग्स के लिए संस्थान बनाए जा रहे हैं.

विकास पर फोकस

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार के कृषि रोडमैप का लक्ष्य है कि हिंदुस्तान की हर थाली में बिहार का कोई न कोई उत्पाद जरूर हो. इसमें मिथिला का मखाना सबसे अहम है.

नीतीश कुमार ने कहा, चम्पारण सत्याग्रह का शताब्दी वर्ष, प्रकाश पर्व जैसे समारोहों में मिथिला पेटिंग और भागलपुर सिल्क भेंट कै तौर पर किया जाएगा. इस कार्यक्रम में बीजेपी के राज्यसभा सांसद प्रभात झा और हुकुम देव नारायण यादव के साथ बिहार सरकार के मंत्री विनोद नारायण झा, पूर्व विधान पार्षद संजय झा सहित कई लोग मौजूद थे.

जेडीयू लंबे समय से मिथिलांचल की राजनीति में खुद को स्थापित करने की कोशिश कर रही है. मिथिलांचल में बीजेपी की मजबूत पकड़ है. उसके बाद कांग्रेस का नंबर है. अब नीतीश कुमार जेडीयू की पकड़ मजबूत करने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Test Ride: Royal Enfield की दमदार Thunderbird 500X

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi