S M L

इन लड़ाकों के सहारे बीजेपी मैदान में उतरेगी: 2019 के चुनाव से पहले बीजेपी के चुनाव प्रभारियों के नाम का ऐलान

लोकसभा चुनाव से पहले अब बीजेपी ने अपनी टीम को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है.

Updated On: Dec 26, 2018 07:59 PM IST

Amitesh Amitesh

0
इन लड़ाकों के सहारे बीजेपी मैदान में उतरेगी: 2019 के चुनाव से पहले बीजेपी के चुनाव प्रभारियों के नाम का ऐलान

लोकसभा चुनाव से पहले अब बीजेपी ने अपनी टीम को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है. ऐसे तो पार्टी काफी पहले से ही चुनावी तैयारियों में लगी हुई है, लेकिन, अब नए साल के आगमन से ठीक पहले अलग-अलग राज्यों के चुनाव प्रभारियों के नाम का ऐलान कर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने जंग में उतरने से पहले अपनी टीम को तैयार कर लिया है.

17 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश के लिए अमित शाह ने जिन चुनाव प्रभारियों के नाम का ऐलान किया है, उसके मुताबिक, बीजेपी महासचिव भूपेंद्र यादव को बिहार का चुनाव प्रभारी बनाया गया है. इसके पहले भी भूपेंद्र यादव बिहार के प्रभारी की ही भूमिका में थे. लेकिन, अब पार्टी ने उनको लोकसभा चुनाव तक चुनाव की रणनीति बनाने और वहां सहयोगी दलों से मिलकर एनडीए को जीत दिलाने की बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है.

भूपेंद्र यादव पिछड़े यादव समुदाय से आते हैं और बिहार के बीजेपी अध्यक्ष नित्यानंद राय भी यादव समुदाय से ही आते हैं. इन दोनों के माध्यम से बीजेपी की कोशिश लोकसभा चुनाव में आरजेडी के एमवाई यानी मुस्लिम समुदाय में दरार डालकर यादव समुदाय को अपने पाले में लाने की है. गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव 2014 में भी मोदी लहर में बिहार में इस समुदाय के युवाओं ने कई इलाकों में बीजेपी का साथ दिया था. अब एक बार फिर से भूपेंद्र यादव के उपर संगठन में बेहतर तालमेल बैठाने के साथ-साथ 2014 से बेहतर प्रदर्शन करने की जिम्मेदारी होगी.

इसके अलावा बीजेपी उपाध्यक्ष ओमप्रकाश माथुर को गुजरात का चुनाव प्रभारी बनाया गया है. ओमप्रकाश माथुर पहले भी गुजरात के प्रभारी रह चुके हैं. लेकिन, अपनी नई भूमिका से पहले वो उत्तरप्रदेश के प्रभारी थे. उस दौरान विधानसभा चुनाव में पार्टी की एकतरफा जीत हुई थी. अब उनपर गुजरात की 26 की 26 लोकसभा सीटें जिताने की बड़ी जिम्मेदारी होगी.

इसके अलावा उत्तर प्रदेश में जो बीजेपी के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण होगा, पार्टी ने एक प्रभारी के साथ-साथ दो सह-प्रभारियों की नियुक्ति की है. इस बार गुजरात के बीजेपी नेता और नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्रित्व काल में मंत्री रह चुके गोवर्धन झड़पिया को यूपी का चुनाव प्रभारी बनाया गया है, जबकि दुष्यंत गौतम और नरोत्तम मिश्रा को यूपी का सह-प्रभारी बनाया गया है.

गोवर्धन झड़पिया गुजरात में नरेंद्र मोदी की सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं. लेकिन, 2012 के विधानसभा चुनाव के वक्त मोदी के खिलाफ होकर इन्होंने केशुभाई पटेल की पार्टी गुजरात जनता पार्टी का दामन थाम लिया था. लेकिन, उस वक्त चुनाव हारने के बाद बाद में इनकी बीजेपी में वापसी हो गई.

यूपी जैसे सबसे बड़े राज्य में गोवर्धन झड़पिया को जिम्मेदारी दिया जाना बड़ी बात है, क्योंकि गोवर्धन झड़पिया गुजरात से यूपी उसी तरह लाए गए हैं जैसे पिछले लोकसभा चुनाव से पहले अमित शाह को यूपी की जिम्मेदारी दी गई थी. अब अमित शाह पार्टी अध्यक्ष हैं, लिहाजा उन्होंने अपने भरोसेमंद गोवर्धन झड़पिया को यूपी का प्रभार सौंप दिया है.

पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान यूपी की 80 में से 73 सीटों पर बीजेपी की सहयोगी अपना दल समेत जीत मिली थी. ऐसे में एकबार फिर उस प्रदर्शन को दोहराने की चुनौती बीजेपी के सामने है. यूपी के संगठन को बारीकी से समझने वाले शाह, झड़पिया के बहाने पूरे यूपी के चुनाव और उससे जुड़ी तैयारियों पर अपनी पैनी नजर रख सकेंगे.

राजस्थान में बीजेपी को विधानसभा चुनाव में भले ही हार का सामना करना पड़ा हो, लेकिन, लोकसभा के लिहाज से पार्टी के लिए यह चुनाव काफी अहम है. पिछले लोकसभा चुनाव में 25 सीटें बीजेपी के खाते में थी, लेकिन, अब लोकसभा चुनाव में बीजेपी कोई गलती नहीं दोहराना चाहती. बीजेपी ने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर को राजस्थान का चुनाव प्रभारी जबकि अपने राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी को सह प्रभारी बनाया है.

इसके अलावा बीजेपी अध्यक्ष ने आंध्रप्रदेश के लिए राज्यसभा सांसद वी. मुरलीधरन को चुनाव प्रभारी जबकि सुनील देवधर को सह-प्रभारी बनाया है. सुनील देवधर ने प्रभारी रहते हुए त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव के वक्त अपनी सांगठनिक कुशलता का परिचय दिया था. उस वक्त त्रिपुरा में बीजेपी ने सालों से आ रही वामपंथी सरकार का सुपड़ा साफ कर दिया था. अब दक्षिण में आंध्रप्रदेश में पार्टी के बेहतर प्रदर्शन की जिम्मेदारी इन पर होगी.

इसके अलावा छत्तीसगढ़ में बीजेपी महासचिव डॉ. अनिल जैन को प्रभारी बनाया गया है, जबकि, बिहार सरकार में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे को झारखंड में लोकसभा चुनाव का प्रभारी बनाया गया है. जबकि केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत के कंधों पर उत्तराखंड में पार्टी को जिताने की जिम्मेदारी होगी.

इसके अलावा मध्यप्रदेश में स्वतंत्र देव सिंह को लोकसभा चुनाव प्रभारी और सतीश उपाध्याय को सह प्रभारी बनाया गाय है. जबकि हिमाचल प्रदेश में तीरथ सिंह रावत, ओडीशा में अरुण सिंह, पंजाब और चंडीगढ़ में कैप्टन अभिमन्यु और तेलंगाना में अरविंद लिम्बावली को लोकसभा चुनाव का प्रभार सौंपा गया है.

नॉर्थ ईस्ट में महेंद्र सिंह को असम, नलिन कोहली को मणिपुर और नगालैंड और नितिन नवीन को सिक्किम की जिम्मेदारी दी गई है. महेंद्र सिंह बीजेपी के पहले से भी असम के प्रभारी हैं, जबकि बीजेपी प्रवक्ता नलिन कोहली के पास नॉर्थ-ईस्ट के दो राज्यों की जिम्मेदारी होगी. बीजेपी के बिहार में राजधानी पटना से विधायक और युवा मोर्चा के बिहार के अध्यक्ष नितिन नवीन को सिक्किम का प्रभार सौंप कर पार्टी ने यह दिखाने का प्रयास किया है कि नॉर्थ-ईस्ट पर भी उसकी पैनी नजर है और पार्टी इस पूरे इलाके को भी चुनाव के दौरान उतनी ही गंभीरता से लेती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi