Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

‘ये सिर्फ लिस्ट नहीं मेरा तजुर्बा है जो तुम्हारे सफर में बहुत काम आएगा’

आखिलेश की समाजवादी पार्टी को लेकर परिवार में फिर बन गई बात.

Kinshuk Praval Kinshuk Praval Updated On: Jan 17, 2017 07:08 PM IST

0
‘ये सिर्फ लिस्ट नहीं मेरा तजुर्बा है जो तुम्हारे सफर में बहुत काम आएगा’

बेटे अखिलेश के हाथों में अब वो पार्टी है जिसे पिता ने अपनी मेहनत से खड़ी की. बेटे के पास वो चुनाव चिन्ह है जिसे मुलायम ने लोगों के दिलों में दौड़ाने का काम किया. अब चुनाव आयोग ने भी अखिलेश को आधिकारिक उत्तराधिकारी घोषित कर दिया यानी चाचा शिवपाल का खेल खत्म और पिता मुलायम संरक्षक/मार्गदर्शक.

लेकिन चुनाव आयोग के ऐलान के बाद अखिलेश सीधे पिताजी के पास दौड़े. यूपी चुनाव के लिये आशीर्वाद मांगा. साथ ही ये भी बता दिया कि उम्मीदवारों की लिस्ट में दोनों के बीच कोई मतभेद नहीं हैं. दोनों की लिस्ट में 90 प्रतिशत समानता है.

Akhilesh Mulayam

मुलायम ने मांगा शिवपाल के बेटे के लिये टिकट

मुलायम सिंह ने इतना सब कुछ गंवाने के बावजूद ‘कुछ बचा हुआ था’ वो भी अखिलेश को सौंप दिया. 

मुलायम ने अखिलेश को 38 उम्मीदवारों की लिस्ट सौंपी है. इस लिस्ट में शिवपाल सिंह यादव का नाम नहीं है लेकिन उनके बेटे आदित्य यादव का नाम है. आदित्य के लिये यशवंत नगर की सीट मांगी गई है. साथ ही  मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव को भी लखनऊ कैंट से उतारने की बात रखी गई है.
माना जा रहा है कि अखिलेश अपनी लिस्ट में पापा की लिस्ट को जगह देंगे.

जाहिर तौर पर

सियासी नजर से देखें तो वो सिर्फ एक लिस्ट नहीं बल्कि मुलायम का ‘सियासी तजूर्बा’ है जिसे उन्होंने अखिलेश को सौंपा है.

मुलायम अपने बेटे में अब पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की तस्वीर को साफ देख  रहे हैं और चाहते हैं कि बेटे की नई पारी में जीत के लिये कोई कमी न रह जाए. इसलिये इतना सब होने के बावजूद 38 उम्मीदवारों की लिस्ट सौंपी है. अखिलेश भी मुलायम का इशारा समझ चुके हैं क्योंकि अगर पापा का 38 पर जोर है तो वजह कुछ तो होगी. हो सकता हो चुनाव के बाद यही 38 पार्टी के लिये बड़ी भूमिका अदा करें.

मुलायम के घर हुई हाईलेवल मीटिंग

अब तस्वीर इतनी तेजी से बदल रही है कि माना जा रहा है कि अखिलेश उम्मीदवारों की फाइनल लिस्ट जारी करने से पहले मुलायम सिंह यादव की मंजूरी लेंगे.

दरअसल मुलायम के घर पर एक हाइलेवल मीटिंग हुई. जिसमें ये फैसला हुआ कि न तो अखिलेश का कोई विरोध होगा और न ही अखिलेश और उनकी पार्टी के खिलाफ कोई उम्मीदवार उतारा जाएगा. कोर्ट जाने की बात को दरकिनार करते हुए अखिलेश को राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर सबने मंजूर कर लिया है. मुलायम का संदेश साफ है कि अब सबकुछ भुलाकर चुनाव की तैयारियों में जुटा जाए.

Akhilesh_Mulayam

ऐसे में अब वो कयास खारिज हो गए कि मुलायम सिंह दूसरे चुनाव चिन्ह के साथ नई पार्टी लांच करेंगे. माना जा रहा  था कि मुलायम सिंह 'लोकदल' को पुनर्जीवित कर सकते हैं. ‘हल जोतता किसान’ का सिंबल उनके लिये लकी भी रहा है. जसवंत नगर से वो लोकदल से ही चुनाव भी जीते.

मुलायम जान गए कि अखिलेश के साथ ही सबकी भलाई

मुलायम सिंह ने ये भी कह कर माहौल को गरमा दिया था कि अखिलेश ने मुस्लिमों की अनदेखी की है. यहां तक कि उन्होंने ये भी कहा था कि जरुरत पड़ने पर वो अखिलेश के खिलाफ मैदान में उतरेंगे. लेकिन पहलवान रहे नेताजी के बयान भी अखाड़े के दांव की तरह बदलने लगे हैं.

अब वो खुद 38 लोगों की लिस्ट अखिलेश को सौंप रहे हैं तो साफ है कि सपा-कांग्रेस-रालोद के साथ एक अदृश्य गठजोड़ मुलायम सिंह के रूप में भी हो रहा है.

Akhilesh Yadav

चुनाव आयोग 'साइकिल' को फ्रीज नहीं कर सका क्योंकि पार्टी में टूट नहीं हुई थी. जाहिर तौर पर मुलायम ये नहीं चाहते थे कि उनकी बनाई साइकिल चुनाव आयोग के गैराज में हमेशा के लिये बंद हो जाए. इसलिये उन्होंने ‘जाने दो’ कि तर्ज पर जो हो रहा था उसे होने भी दिया.

अब मुलायम मार्गदर्शक के रूप में अखिलेश की सपा को दिशा दे रहे हैं जिससे साफ है कि मुलायम किसी नई पार्टी को लांच करने की जल्दबाजी या गलती नहीं करेंगे.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi