S M L

MP Assembly Election Results 2018: शिवराज के 11 मंत्रियों को मिली हार

15 साल लगातार रहने के बावजूद कांग्रेस को कांटे की टक्कर देना बीजेपी सरकार के लिए अहम है लेकिन शिवराज के मंत्रियों को यह चुनाव भारी पड़ गया है

Updated On: Dec 11, 2018 09:59 PM IST

FP Staff

0
MP Assembly Election Results 2018: शिवराज के 11 मंत्रियों को मिली हार

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में कांटे की टक्कर चल रही है. बीजेपी 70 सीटें चुकी है और 40 सीटों पर आगे चल रही है. वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस 82 सीटें जीत चुकी है और 31 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है. 15 साल लगातार रहने के बावजूद कांग्रेस को कांटे की टक्कर देना बीजेपी सरकार के लिए अहम है लेकिन शिवराज के मंत्रियों को यह चुनाव भारी पड़ गया है.

यह भी पढ़ें: Election Results 2018: के चंद्रशेखर राव कैसे बने साउथ इंडिया के नए बाहुबली!

अभी तक शिवराज सरकार के 11 मंत्रियों की हार हो चुकी है. हारने वाले मंत्रियों में ये नाम शामिल हैं.

ओम प्रकाश धुर्वे अंतर सिंह आर्य दीपक जोशी अर्चना चिटनिस ललिता यादव बालकृष्ण पाटीदार लाल सिंह आर्य उमाशंकर गुप्ता रुस्तम सिंह जयभान सिंह पवैया नारायण सिंह कुशवाहा

कांग्रेस में खुशी की लहर

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनाव नतीजों में कांग्रेस की बढ़त पर खुशी जताई है. उन्होंने कहा, 'यह कांग्रेस के कार्यकर्ताओं, छोटे व्यापारियों और किसानों की जीत है. यह कांग्रेस के लिए बड़ी जिम्मेदारी है और हम इस पर काम करेंगे.'

उन्होंने कहा, 'हम राज्यों को एक नई दिशा देने जा रहे हैं. हम ऐसी सरकार देंगे जिससे जनता को हम पर गर्व होगा.' राहुल ने यह भी कहा, 'एसपी, बीएसपी और कांग्रेस एक जैसी हैं लेकिन बीजेपी से अलग हैं.'

सीएम चुनने के सवाल पर राहुल ने कहा, 'सीएम पद के लिए किसी को चुनना कोई बड़ा मसला नहीं है, इसे हम बहुत आराम से सुलझा लेंगे.' ईवीएम के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, 'जहां तक ईवीएम की बात है तो इसमें बहुत सी समस्याएं हैं. अगर इस देश के लोग ईवीएम के साथ सहमत नहीं हैं तो यह एक बड़ा मुद्दा है जिस पर बात होनी चाहिए.'

राहुल ने कहा, 'अगर चिप के साथ छेड़छाड़ की जाती है तो पूरे वोटिंग सिस्टम पर असर डाला जा सकता है जो मैनुअल वोटिंग के साथ संभव नहीं है. यह एक सवाल है जिसका जवाब यूएस और बाकी देशों में दिया गया. वहां कहा गया कि वो ईवीएम नहीं चाहते.'

उन्होंने कहा, 'जब पीएम सत्ता में आए थे तब उन्होंने रोजगार, भ्रष्टाचार और किसानों के मुद्दे पर बात की थी. लोगों के दिल में था कि पीएम मोदी भ्रष्टाचार से लड़ेंगे लेकिन अब लोग सोचते हैं कि पीएम मोदी खुद भ्रष्ट हैं.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi