S M L

MP Results 2018: कांग्रेस जीत तो गई लेकिन धड़कनें दिन भर तेज ही रही

अभी तक आए रुझानों में कांग्रेस 119 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है जबकि बीजेपी 102 सीटों पर आगे चल रही है. सत्ता पाने के लिए 116 सीटों की जरूरत है

Updated On: Dec 11, 2018 04:20 PM IST

FP Staff

0
MP Results 2018: कांग्रेस जीत तो गई लेकिन धड़कनें दिन भर तेज ही रही

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे मंगलवार को आ रहे हैं. कांग्रेस और बीजेपी में मुकाबला टक्कर का चल रहा है. अन्य राज्यों में स्थिति साफ हो चुकी है लेकिन मध्य प्रदेश में अभी भी संशय की स्थिति बनी हुई है. अभी तक आए रुझानों में कांग्रेस 119 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है जबकि बीजेपी 102 सीटों पर आगे चल रही है. सत्ता पाने के लिए 116 सीटों की जरूरत है.

रुझानों में आगे-पीछे होते रहे कांग्रेस और बीजेपी

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए 28 नवंबर को मतदान हुआ था जिसमें 75.05 प्रतिशत वोटिंग हुई थी. 2013 के चुनाव के मुकाबले इस बार वोटिंग प्रतिशत बढ़ने के कारण लोग अलग-अलग कयास लगा रहे थे लेकिन सभी कयासों और एग्जिट पोल को गलत साबित करते हुए कांग्रेस ने बढ़त बना ली है. 8 बजे सुबह मतगणना शुरू होने के बाद ही दोनों पार्टियों में कड़ी टक्कर देखने को मिली. कभी बीजेपी आगे जा रही थी, तो कभी कांग्रेस.

मुख्यमंत्री उम्मीदवार चुनना कांग्रेस के लिए मुश्किल

मध्य प्रदेश में कांग्रेस के लिए सरकार बनाने से ज्यादा मुश्किल मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार को चुनना है. चुनाव पूर्व कांग्रेस ने अपने सीएम उम्मीदवार की घोषणा नहीं की थी जबकि बीजेपी इस बार भी अपने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में चुनाव लड़ा. हालांकि पार्टी को इससे फायदा होता नजर नहीं आ रहा है. लेकिन शिवराज सिंह चौहान अपनी सीट बचाने में कामयाब रहे हैं.

कमलनाथ, सिंघिया और दिग्विजय सिंह ने की बैठक

पक्ष में रुझान आता देख कांग्रेस के नेताओं ने अपनी आगे की रणनीति बनाने के लिए बैठक करनी शुरू कर दी. प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ के आवास पर बैठक करने के लिए दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया भी पहुंचे थे.

2019 लोकसभा चुनाव के लिए कार्यकर्ता जोश से भरे रहेंगे

15 साल से सत्ता से दूर रही कांग्रेस इस बार राज्य में वापसी कर रही है. इन चुनावों को 2019 लोकसभा चुनाव का सेमीफाइनल कहा जा रहा था. ऐसे में यहां मिली जीत कांग्रेस के लिए किसी संजीवनी से कम नहीं होगी. कार्यकर्ता जोश में रहेंगे और पार्टी को इसका लाभ मिलेगा.

एसपी-बीएसपी के बदल जाएंगे सुर

ऐसा माना जा रहा था कि कांग्रेस मध्य प्रदेश चुनाव में समाजवादी पार्टी या बहुजन समाज पार्टी से गठबंधन करेगी लेकिन ऐसा हुआ नहीं. राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना था कि गठबंधन नहीं होने के कारण कांग्रेस को नुकसान उठाना पड़ सकता है लेकिन नतीजों में इसका कोई खास असर देखने को नहीं मिल रहा है. माना जा रहा है कि कांग्रेस की तीन राज्यों में जीत से क्षेत्रीय दलों के सुर बदलेंगे और राहुल गांधी के नेतृत्व पर भी इसका असर पड़ेगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi