S M L

एमपी: शिवराज को चुनौती देने वाले अरुण बोले- यह लड़ाई असली और नकली किसान पुत्र के बीच होगी

सीहोर जिले की बुधनी सीट से नामांकन दाखिल करने के बाद अरुण यादव ने कहा कि मुझे मां नर्मदा ने अपनी रेत में हुए अवैध उत्खनन के 1-1 कण व भ्रष्टाचार का हिसाब लेने के लिए बुधनी बुलाया है

Updated On: Nov 09, 2018 02:14 PM IST

FP Staff

0
एमपी: शिवराज को चुनौती देने वाले अरुण बोले- यह लड़ाई असली और नकली किसान पुत्र के बीच होगी
Loading...

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ उनके ही घर में पटखनी देने के लिए कांग्रेस ने अरुण यादव को अपना उम्मीदवार बनाया है. अरुण यादव पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष हैं. टिकट का ऐलान होने के बाद अरुण यादव ने कहा कि हम शिवराज सिंह चौहान को हराएंगे. मुझे इस बात की खुशी है कि पार्टी ने मुझे इतनी बड़ी जिम्मेदारी दी है. हम लोग बुधनी जीतेंगे.

उन्होंने कहा कि हम शिवराज जी से लैंड माफिया, किसानों की आत्म हत्या और रेप के मामलों पर सवाल करेंगे. हम बीजेपी का पर्दाफाश भी करेंगे. शुक्रवार को सीहोर जिले की बुधनी से सीट से नामांकन दाखिल करने के बाद उन्होंने कहा कि मुझे मां नर्मदा ने अपनी रेत में हुए अवैध उत्खनन के 1-1 कण व भ्रष्टाचार का हिसाब लेने के लिए बुधनी बुलाया है. मैं शिवराज को घेरने नहीं, पूरे दृढ़विश्वास के उन्हें हराने आया हूं. पूरी पार्टी मेरे साथ चट्टान की तरह खड़ी है. अरुण यादव ने कहा, यह लड़ाई किसान के नकली और असली पुत्र के बीच होगी.

अरुण ने कहा, शिवराज कैबिनेट में 18 मंत्री खेती करने वाले हैं जिनकी आय कृषि के कारण पिछले 4 सालों में 144 प्रतिशत बढ़ी है. ऐसा 11 प्रत्याशियों के हाल ही में भरे नामांकन में सामने आया है. यदि यह सच है तो सीएम बताएं प्रदेश में उनके कार्यकाल में अब तक 36 हजार किसानों ने आत्महत्या क्यों की?

उन्होंने शिवराज सिंह चौहान से सवाल पूछा, प्रदेश में सबसे अधिक आत्महत्या करने वाले किसान उनके गृह जिले सीहोर के ही क्यों है? पिछले 14 सालों में शिवराज ने बुधनी के कितने युवाओं को रोजगार दिया?

अरुण यादव ने कहा, राहुल जी ने जो विश्वास दिखाया उसके लिए हृदय से आभार व्यक्त करता हूं. पिछले साढ़े चार वर्षों में प्रदेश अध्यक्ष पद पर रहते हुए जनता के दुख दर्द का सहभागी बना हूं और जनता के दुःख को बहुत करीब से देखा है. मैं किसानों, युवाओं और महिलाओं की लड़ाई आखरी सांस तक लड़ता रहूंगा.

अरुण यादव खंडवा से दो बार सांसद भी रह चुके हैं. 2014 लोकसभा चुनाव में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा था. अरुण यादव की एक और पहचान है, वे मध्य प्रदेश के कद्दावर कांग्रेसी नेता सुभाष यादव के बेटे हैं.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi