S M L

एमपीः 'आप' ने कहा, ढोंगी कंप्यूटर बाबा से डर गए शिवराज

आम आदमी पार्टी ने कहा कि एक तरफ ढोंगी बाबा हैं तो दूसरी ओर डरपोक मुख्यमंत्री हैं

Bhasha Updated On: Apr 05, 2018 10:34 PM IST

0
एमपीः 'आप' ने कहा, ढोंगी कंप्यूटर बाबा से डर गए शिवराज

मध्यप्रदेश में पांच बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा देने के बाद छिड़ी बहस के बीच आम आदमी पार्टी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा है. पार्टी ने उन्हें ‘डरपोक’ बताया. कहा कि जिन बाबाओं को मुख्यमंत्री द्वारा राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया है, वह ढ़ोंगी है.

आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल ने कहा, ‘मुख्यमंत्री द्वारा की गई नर्मदा सेवा यात्रा की पोल खोलने के लिए बाबाओं ने कुछ दिन पहले नर्मदा घोटाला रथ यात्रा शुरू करने की घोषणा कर मुख्यमंत्री को ब्लैकमेल किया. इसके जवाब में मुख्यमंत्री ने इन बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा दे दिया.

इसमें एक तरफ ढोंगी बाबा हैं तो दूसरी ओर डरपोक मुख्यमंत्री हैं. मुख्यमंत्री ने मध्यप्रदेश को देश में शर्मसार किया है और इसके लिए उन्हें प्रदेश की 8 करोड़ जनता से माफी मांगनी चाहिए.’ पत्रकार वार्ता में दिल्ली सरकार के श्रम मंत्री गोपाल राय भी मौजूद थे.

मालूम हो कि चौहान ने मध्यप्रदेश की जीवन रेखा मानी जाने वाली नर्मदा नदी के संरक्षण के लिए लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से गत वर्ष नर्मदा सेवा यात्रा की थी. चौहान की यात्रा के दौरान प्रदेश सरकार ने नर्मदा नदी के दोनों किनारों पर 6 करोड़ पौधे रोपने का दावा किया था.

एक ढोंगी बाबा के डर से शिवराज ने दिया राज्यमंत्री का दर्जा 

उन्होंन कहा कि इन बाबाओं ने दावा किया था कि वह एक यात्रा निकाल कर चौहान के नर्मदा सेवा यात्रा और इस दौरान 6 करोड़ पौधे रोपने के घोटाले की पोल खोलेंगे. बाबाओं की एक अप्रैल से होने वाली इस यात्रा का बैनर भी सोशल मीडिया में वायरल हो गया था.

अग्रवाल ने कहा, ‘लेकिन बाबाओं को राज्यमंत्री का दर्जा हासिल होने के बाद उन्होंने अपनी नर्मदा घोटाला यात्रा रद्द कर दी और मुख्यमंत्री का गुणगान करने लगे. ये बाबा कोई धार्मिक नेता नहीं बल्कि ढोंगी हैं.

दिल्ली सरकार के श्रम मंत्री और पार्टी के मध्यप्रदेश प्रभारी गोपाल राय ने कहा कि राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी पूरी तैयारियों के साथ उतरेगी और प्रदेश की सभी 230 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi