S M L

दुनियाभर में ज्यादातर चुनाव न तो स्वतंत्र होते हैं और न ही निष्पक्ष : अध्ययन

शोध के मुताबिक इन चुनावों से निरंकुश नेता सत्ता से हट नहीं पाते, साथ ही कई मामलों में ढीले निरंकुश शासन के बाद भी वह वैध दिखने लगते हैं

Updated On: Apr 27, 2018 07:53 PM IST

Bhasha

0
दुनियाभर में ज्यादातर चुनाव न तो स्वतंत्र होते हैं और न ही निष्पक्ष : अध्ययन

दुनियाभर में आज की तारीख में चुनाव की संख्या भले ही अधिक हो गई हो लेकिन उसने लोकतंत्र की गुणवत्ता बढ़ाने में शायद ही कुछ किया है. एक नए अध्ययन में यह बात कही गई है. बर्मिंघम विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ इकॉनोमिक्स के इस अध्ययन में कहा गया है कि ज्यादातर राष्ट्रीय चुनाव स्वतंत्र एवं निष्पक्ष नहीं हुए. जिससे निरंकुश नेता सत्ता में बने रहे और नई टैकनोलॉजी के उभार ने अपने ढंग से चीजों को पेश करने में उन्हें मदद पहुंचाई.

शोधकर्ताओं ने याले बुक्स द्वारा प्रकाशित ‘चुनाव में गड़बड़ी कैसे करें’ में यह खुलासा किया है. बर्मिंघम विश्वविद्यालय ने शुक्रवार को जारी एक विज्ञप्ति में बताया कि बेलारुस, केन्या, मेडागास्कर, नाईजीरिया, थाईलैंड, ट्यूनीशिया, समेत विभिन्न देशों में 500 से अधिक लोगों के साक्षात्कार एवं जमीनी स्तर पर वहां के चुनाव का अनुभव कर चुके प्रोफेसर निक चीसेमैन और ब्रिया क्लास लोकतांत्रिक अवमूल्यन का खुलासा करते हैं, जिससे दुनियाभर में तानाशाहों को लाभ पहुंचा.

सबसे चिंता की बात, जो शोध में सामने आई, वह यह है कि इन चुनावों से निरंकुश नेता सत्ता से हट नहीं पाते, साथ ही कई मामलों में ढीले निरंकुश शासन के बाद भी वह वैध दिखने लगते हैं. जिसके नतीजतन निरंकुश प्रणाली, जो चुनाव कराती है, अन्य के तुलना में अधिक स्थिर बन गई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi