S M L

पकौड़े पर शुरू राजनीति तलने का काम, कांग्रेस ने खोला पकौड़ा सेंटर

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में कांग्रेस ने 'पकौड़ा प्रदर्शन' आयोजित किया. साथ ही पीएम मोदी के बयान के विरोध में 'शिक्षित बेरोजगार पकोड़ा सेंटर' भी खोला

Updated On: Feb 06, 2018 10:59 AM IST

FP Staff

0
पकौड़े पर शुरू राजनीति तलने का काम, कांग्रेस ने खोला पकौड़ा सेंटर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा था कि अगर कोई पकौड़े वाला दिन में 200 रुपए कमाता है तो क्या ये रोजगार नहीं है. वहीं पीएम मोदी के इस बयान को लेकर विपक्ष लगातार उनपर निशाना साध रहा है. मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के कार्यकर्ता पकौड़े को लेकर बीजेपी का घेराव कर रहे हैं. छत्तीसगढ़ के दुर्ग में कांग्रेस ने 'पकौड़ा प्रदर्शन' आयोजित किया. साथ ही पीएम मोदी के बयान के विरोध में 'शिक्षित बेरोजगार पकोड़ा सेंटर' भी खोला. यहां कांग्रेस विधायक अरुण वोरा ने पकौड़े बनाए. उनके साथ मौजूद अन्य नेताओं ने भी पकौड़े बनाकर अपना विरोध दर्शाया. यहां पांच रुपए प्लेट के दाम पर 'जेटली पकौड़ा' और 'रमन पकौड़ा' भी बेचा जा रहा है.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पकौड़ा को लेकर की गई टिप्पणी के विरोध में समाजवादी पार्टी (एसपी) ने भी बरेली के तुलसी पार्क में रविवार को 'पीएम पकौड़ा ट्रेनिंग सेंटर' शुरू किया. पार्टी ने उच्च डिग्रीधारी युवकों को पकौड़ा बनाना सिखाने के लिए बुलाया. इनमें कुछ युवक एमटेक, पीएचडी, एमकॉम और एमबीए जैसी डिग्री ले चुके हैं.

ट्रेनिंग सेंटर के बारे में सपा प्रवक्ता ने कहा, ट्रेनिंग प्रोग्राम चार मॉड्यूल में चलेगा जिसके तहत चार तरह के पकौड़े बनाना सिखाए जाएंगे. मोदी पकौड़ा बीटेक और एमटेक डिग्रीधारकों के लिए. शाह पकौड़ा पीएचडी और एमबीए वालों के लिए, जेटली पकौड़ा एमकॉम पास के लिए और योगी पकौड़ा ग्रैजुएट और बेरोजगार युवाओं के लिए.

यही नहीं समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और पटेल आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल ने भी पकौड़े वाले बयान को लेकर पीएम मोदी पर तंज कसा था. जहां पटेल ने ट्वीट कर कहा था कि ‘बेरोजगार युवा को पकौड़े का ठेला लगाने का सुझाव एक चायवाला ही दे सकता है, अर्थशास्त्री ऐसा सुझाव नहीं देता!'. तो वहीं यूपी के पूर्व सीएम ने कहा था कि एक मंत्री जी कह रहे हैं वानर से मानव बनने का डार्विन का सिद्धांत गलत है क्योंकि पूर्वजों ने ऐसे परिवर्तन को होते हुए देखने की बात कभी नहीं की है. ऐसा कहकर वो देश की सोच को शायद इतनी अवैज्ञानिक बनाना चाहते हैं कि लोग पकौड़ा तलने के रोजगार को नौकरी के समकक्ष मानने से इनकार न करें.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi