S M L

बीजेपी से इस्तीफा देने के बाद क्या कांग्रेस का हाथ पकड़ेंगे मानवेंद्र सिंह?

फर्स्टपोस्ट से बात करते हुए मानवेंद्र ने राजस्थान में बीजेपी की संभावनाओं को एक तरह से नकार दिया. उन्होंने अपने भविष्य की संभावनाओं पर बात की और कहा कि समर्थकों से बात करके वो फैसला करेंगे

Updated On: Sep 28, 2018 08:34 AM IST

Debobrat Ghose Debobrat Ghose
चीफ रिपोर्टर, फ़र्स्टपोस्ट

0
बीजेपी से इस्तीफा देने के बाद क्या कांग्रेस का हाथ पकड़ेंगे मानवेंद्र सिंह?

बीजेपी के दिग्गज नेता जसवंत सिंह के पुत्र मानवेंद्र सिंह ने पिछले हफ्ते बीजेपी के साथ चार दशक का नाता तोड़ लिया. मानवेंद्र बाड़मेर के विधानसभा क्षेत्र शिव से विधायक हैं. 22 सितंबर को बाड़मेर के पचपदरा में हुई स्वाभिमान रैली में उन्होंने पार्टी के वर्तमान नेतृत्व को लेकर अपनी नाराजगी जताई. उनकी नाराजगी राज्य और केंद्र दोनों नेतृत्व से है. फर्स्टपोस्ट से बात करते हुए मानवेंद्र ने राजस्थान में बीजेपी की संभावनाओं को एक तरह से नकार दिया. उन्होंने अपने भविष्य की संभावनाओं पर बात की और कहा कि समर्थकों से बात करके वो फैसला करेंगे.

फ़र्स्टपोस्ट- आपके पिता अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में अहम पद पर थे. पार्टी में भी उनकी अच्छी स्थिति थी. आपने अब बीजेपी छोड़ने का फैसला किया है. इस तरह के जुड़ाव के बावजूद आपने यह फैसला क्यों किया?

मानवेंद्र सिंह- बीजेपी के साथ मेरा मजबूत जुड़ाव रहा है. ऐसे में मेरे लिए फैसला आसान नहीं था. मुझे चार दशकों के जुड़ाव को तोड़कर यह फैसला करना पड़ा. यह फैसला तमाम वजहों से हुआ, जो पिछले कुछ सालों से हो रही थीं. 2014 से अब तक तमाम ऐसी घटनाएं हुईं, जिससे मुझे बीजेपी छोड़नी पड़ी.

फ़र्स्टपोस्ट- बीजेपी से मोहभंग होने की क्या वजह रही?

मानवेंद्र सिंह- पहला, जिस तरह मेरे पिता के साथ 2014 के बाद पार्टी नेताओं ने अच्छा व्यवहार नहीं किया. चार बार के लोकसभा एमपी (पांच बार के राज्य सभा सदस्य) होने के बावजूद उन्हें लोकसभा टिकट नहीं दिया गया. बावजूद इसके कि उन्होंने अपना पूरा जीवन पार्टी को समर्पित कर दिया, उन्हें बहुत अपमानजनक तरीके से हाशिए पर डाल दिया गया.

दूसरा, मुझे बाड़मेर से लोकसभा टिकट नहीं दिया गया.

तीसरा, मुझे और मेरे समर्थकों को लगातार निशाना बनाया गया और प्रदेश बीजेपी द्वारा परेशान किया गया. मेरे घर को (बाड़मेर में) बीजेपी के कुछ समर्थकों से घेर लिया और तोड़-फोड़ की गई.

चौथा, जिस तरह मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली बीजेपी ने मेरे और मेरे पिता को लेकर जैसी उदासीनता दिखाई. ये सारी वजह रहीं.

ये भी पढ़ें: अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट का फैसला: नतीजों से बीजेपी और संघ को कितना फायदा होगा

फ़र्स्टपोस्ट- क्या आपने सारा मामला बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व के सामने नहीं उठाया?

मानवेंद्र सिंह- हां, मैंने केंद्रीय नेतृत्व को सारी बात बताई. लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ. समस्या का समाधान नहीं किया गया. ऐसा क्यों हुआ, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह इस मामले में बेहतर बता सकते हैं. मैं वो बताने के लिए सही इंसान नहीं हूं.

फ़र्स्टपोस्ट- इस समय जबरदस्त अफवाह है कि आप कांग्रेस जॉइन करने वाले हैं. यह कितना सच है?

कांग्रेस जॉइन करने को लेकर जितनी बातें हो रही हैं, अभी वो महज अटकलें हैं. मैं इस बारे में रेफरेंडम करा रहा हूं. मैंने अपने क्षेत्र के वोटर्स और अपने समर्थकों से इस बारे में  राय मांगी है. उनका जो फैसला होगा, मैं वैसा ही करूंगा.

फ़र्स्टपोस्ट- क्या आपकी राजस्थान में कांग्रेस नेता अशोक गहलोत और सचिन पायलट से कोई चर्चा नहीं हुई है?

मानवेंद्र सिंह- इस मामले में मेरी कांग्रेस से कोई बात नहीं हुई है. हालांकि मैं इन दोनों को बहुत अच्छी तरह जानता हूं. वे भी मुझे जानते हैं. सचिन और मैं, दोनों संसद में साथी रहे हैं.

sachin pilot ashok gehlot

फ़र्स्टपोस्ट- क्या आप राजस्थान विधानसभा चुनाव लड़ेंगे?

मानवेंद्र सिंह- नहीं, मेरी विधानसभा चुनाव में कोई रुचि नहीं है. मेरी पसंद हमेशा से लोकसभा के लिए चुने जाने में रही है. मैं 2019 के लोकसभा चुनाव में लड़ने के लिए तैयार हूं.

फ़र्स्टपोस्ट- विधान सभा चुनाव में आप बीजेपी का क्या भविष्य देखते हैं?

मानवेंद्र सिंह- बीजेपी का इस बार राजस्थान में जीतने का कोई चांस नहीं है.

फ़र्स्टपोस्ट- आप ऐसा क्यों सोचते हैं?

मानवेंद्र सिंह- ऐसा सोचने के पीछे तमाम वजह हैं. लोगों ने वसुंधरा राजे के नेतृत्व में जबरदस्त भरोसा दिखाया था. पूरे बहुमत के साथ बीजेपी को सत्ता में बिठाया. उन्होंने मतदाताओं से लंबे-चौड़े वादे किए. लेकिन उन्हें पूरा करने में नाकाम रहीं. इसके अलावा, बढ़ते भ्रष्टाचार का मुद्दा है, गवर्नेंस में नाकामी का मुद्दा है.. नेतृत्व, समाज के टूटने का मुद्दा, लिंचिंग का बढ़ना, सांप्रदायिक हिंसा वगैरह मुद्दे हैं. इन सबके बीज राजे की खामोशी से राज्य के आम लोग हताश और निराश हैं. इन सबका राजस्थान में पार्टी पर व्यापक असर पड़ेगा.

ये भी पढ़ें: राफेल पर चढ़े राहुल की सवारी पर 'पवार' ब्रेक...महागठबंधन की डूबेगी नैया?

फ़र्स्टपोस्ट- आपको क्या लगता है, कांग्रेस राजस्थान विधान सभा चुनाव में कैसा प्रदर्शन करेगी?

मानवेंद्र सिंह- कांग्रेस यकीनन अच्छा करेगी, क्योंकि लोग इस समय बदलाव चाहते हैं. समाज के तमाम वर्गों में इस समय निराशा का माहौल है.

फ़र्स्टपोस्ट- 2019 लोकसभा इलेक्शन में बीजेपी का राजस्थान में प्रदर्शन कैसा होगा?

मानवेंद्र सिंह- बीजेपी 2019 में राज्य में खराब प्रदर्शन करेगी.

फ़र्स्टपोस्ट- और पूरे देश में...?

मानवेंद्र सिंह- मैं इस बारे में टिप्पणी नहीं कर पाऊंगा कि पूरे भारत में 2019 में बीजेपी का प्रदर्शन कैसा रहेगा. अटकलें नहीं लगाना चाहता.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi