S M L

भारत और कश्मीरियों के बीच दुर्भावना पैदा कर रहा मीडियाः महबूबा

उन्होंने कहा कि मीडिया के कुछ धड़े राज्य से सबसे वाहियात व्यक्ति को चुनते हैं जो देश के खिलाफ बोल सके. उसे वे टीवी पर दिखाते हैं और फिर वे लोग किसी से उसे भिड़ाते हैं

Updated On: Dec 16, 2017 09:47 AM IST

Bhasha

0
भारत और कश्मीरियों के बीच दुर्भावना पैदा कर रहा मीडियाः महबूबा

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि राज्य के लोगों के दिमाग में लाचारी की भावना हो सकती है, नाउम्मीदी की नहीं. वो इंडिया फाउंडेशन की ओर से गोवा में आयोजित तीन दिन के ‘इंडिया आइडियाज कॉन्क्लेव 2017’ के दौरान बोल रही थीं.

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर का विचार भारत के विचार से भिन्न नहीं है क्योंकि दोनों में समानता है. कश्मीर में पिछले कई वर्षों से समस्याएं रही हैं. हम पर अतीत का बोझ है लेकिन मैं जम्मू-कश्मीर को पिछले कई वर्षों से देख रही हूं, यहां लाचारी की भावना है लेकिन नाउम्मीदी नहीं है.’

उन्होंने कहा कि मीडिया आग में घी डालने की बजाए कश्मीरियों को शेष भारत के करीब लाए. मीडिया अलगाववादियों को गालियां दे रहा है. उन्हें आरोपी बना रहा है. लेकिन जहर उगलवाने के लिए उन्हें टीवी पर भी जगह दे रहा है.

उन्होंने कहा कि वो नहीं जानतीं कि वे ऐसा क्यों कर रहे हैं. क्या ये टीआरपी के चलते हो रहा है? मीडिया को मौजूदा स्थिति से कश्मीर को बाहर निकालने में हमारी मदद करनी चाहिए और आग में घी नहीं डालना चाहिए.

भारत के खिलाफ जहर उगलनेवालों को बनाता है कश्मीरियों का चेहरा 

उन्होंने कहा कि मीडिया के कुछ धड़े राज्य से सबसे वाहियात व्यक्ति को चुनते हैं जो देश के खिलाफ बोल सके. ‘वे ऐसे व्यक्ति को चुनते हैं जिसे कोई नहीं जानता, कोई कश्मीरी उसका परिचित नहीं. उसे वे टीवी पर दिखाते हैं और फिर वे लोग किसी से उसे भिड़ाते हैं.

ये दोनों लड़ते हैं और कश्मीर और अन्य देशवासी उन्हें देखते हैं. दूसरे देशवासियों को लगता है कि ये कश्मीरी देश के बारे में बुरा बोल रहा है इसलिए कश्मीरी बुरे हैं. और कश्मीरियों को लगता है कि पहला व्यक्ति कश्मीर पर आरोप लगा रहा है.

कश्मीरियत कश्मीर के लोगों के कामकाज को प्रदर्शित करती है. मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार उन कश्मीरी पंडितों की भी मदद कर रही है जो विस्थापित नहीं हुए हैं. उन्होंने कहा, ‘मेरे पिता ने 2002 में कश्मीरी पंडितों के अस्थायी अवास बनाना शुरू किया था. अब हम लोग उन स्थानों पर और आवास बना रहे हैं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi