S M L

JK: मिलिए सबसे अमीर MLA अल्ताफ बुखारी से, जो बन सकते हैं अगले CM

खबर सामने आ रही है कि तीनों पार्टियों के बीच सरकार बनाने को लेकर चल रही खींचतान खत्म हो गई है

Updated On: Nov 21, 2018 06:06 PM IST

FP Staff

0
JK: मिलिए सबसे अमीर MLA अल्ताफ बुखारी से, जो बन सकते हैं अगले CM

जम्मू कश्मीर में पीडीपी-बीजेपी का गठबंधन टूटने के बाद से ही राज्यपाल शासन लगा हुआ है. जब ये गठबंधन टूटा था, तब अटकलें लगाई जा रही थी कि पीडीपी, नेशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस मिलकर सरकार बना सकती हैं. हालांकि उस समय ऐसा कुछ भी नहीं. लेकिन अब खबर सामने आ रही है कि तीनों पार्टियों के बीच सरकार बनाने को लेकर चल रही खींचतान खत्म हो गई है. सूत्रों के मुताबिक, अगर पीडीपी, एनसी और कांग्रेस के गठबंधन वाली सरकार सत्ता में आती है, तो अल्ताफ बुखारी मुख्यमंत्री बनेंगे.

कौन हैं अल्ताफ बुखारी

बिजनैसमेन से राजनेता बने अल्ताफ बुखारी पीडीपी के वरिष्ठ नेता हैं और पूर्व वित्तमंत्री भी रह चुके हैं. बीजेपी-पीडीपी की गठबंधन वाली सरकार में वो राज्य के शिक्षा मंत्री थे. बाद में उन्हें पूर्व में पीडब्लूडी मंत्री का अतिरिक्त चार्ज भी दे दिया गया था. इससे पहले मुफ्ती मोहम्मद सईद के कार्यकाल में बुखारी आरएंडबी मिनिस्टर थे. श्रीनगर की अमीरा कदल निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले बुखारी राज्य में 2014 में हुए विधानसभा चुनावों के सबसे अमीर उम्मीदवार थे. उनके पास 84 करोड़ रुपए की संपत्ति थी.

बीजेपी के कट्टर आलोचक

सितंबर, 2018 में उन्होंने जम्मू कश्मीर सिविल सोसायटी कॉर्डिनेशन कमेटी द्वारा एनसी और पीडीपी के गठबंधन के सुझाव का स्वागत भी किया था. बुखारी को बीजेपी का कट्टर आलोचक माना जाता है. उन्होंने कहा था कि बुलेट से मुद्दे नहीं सुलाझाए जा सकते. पीडीपी बातचीत में विश्वास रखती है. बीजेपी के कुछ नेता पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा शुरू की गई शांति प्रक्रिया को नुकसान पहुंचाना चाहते हैं.

19 दिसंबर को खत्म होगा राज्यपाल शासन

राज्य में फिलहाल राज्यपाल शासन है. 19 दिसंबर को राज्यपाल शासन की 6 महीने की मियाद पूरी हो रही है. और इसे और अधिक बढ़ाया नहीं जा सकता है. राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने 87 सदस्यीय विधानसभा को भंग नहीं करने का फैसला किया है. ऐसे में 19 दिसंबर तक यदि कोई पार्टी सरकार बनाने पर सहमत नहीं होती है तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लाया जा सकता है.

इस साल 16 जून को पीडीपी-बीजेपी गठबंधन से बीजेपी अलग हो गई थी. जिसके बाद से यहां राज्यपाल शासन लगा हुआ है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi