S M L

300 दवाओं पर बैन लगाने की तैयारी, सरकार के खिलाफ कोर्ट जाएंगी कंपनियां?

दवा तकनीकी सलाहकार बोर्ड (डीटीएबी) की उप-समिति ने 343 दवाओं को प्रतिबंधित करने की सिफारिश की है

Updated On: Aug 04, 2018 05:11 PM IST

FP Staff

0
300 दवाओं पर बैन लगाने की तैयारी, सरकार के खिलाफ कोर्ट जाएंगी कंपनियां?

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय जल्द ही 300 से अधिक दवाओं पर प्रतिबंध लगा सकता है. ये दवाएं फिक्स्ड डोज कॉम्बिनेशन (एफडीसी) की हैं. संभावना जताई जा है कि सरकार के इस फैसले के खिलाफ दवा कंपनियां अदालत का दरवाजा खटखटा सकती हैं.

अंग्रेजी अखबार इकॉनमिक टाइम्स के मुताबिक, दवा तकनीकी सलाहकार बोर्ड (डीटीएबी) की उप-समिति ने 343 दवाओं को प्रतिबंधित करने की सिफारिश की है. इस फैसले से सिपला और ल्यूपिन जैसी दिग्गज दवा कंपनियां प्रभावित हो सकती हैं. जिन दवाओं पर प्रतिबंध की तलवार लटक रही है, उनमें फेंसेडिल, सैरिडॉन और डी' कोल्ड टोटल के नाम शामिल हैं.

अगले दो हफ्ते के भीतर स्वास्थ्य मंत्रालय को इस बाबत रिपोर्ट भेजी जाएगी, जिसके आधार पर सरकार फैसला करेगी. एफडीसी के एक खुराक में दो या दो से अधिक दवाओं का मिश्रण होता है. भारत में कई कफ सिरप, पेन किलर और त्वचा रोग की दवाएं एफडीसी में ही आती हैं.

साल 2016 में स्वास्थ्य मंत्रालय ने 349 एफडीसी दवाओं को प्रतिबंधित किया था, जिनमें कोरेक्स, वीक्स एक्शन 500 एक्स्ट्रा जैसे लोकप्रिय ब्रांड शामिल थे. मंत्रालय का दावा था कि ये दवाएं उपयोग के लिए 'असुरक्षित' हैं.

सरकार के हालिया कदम से लगभग 6,000 दवाएं प्रभावित होंगी और कंपनियों को 3,000 करोड़ रुपए से ज्यादा के नुकसान की आशंका है. भारत में तकरीबन 1 लाख करोड़ रुपए का दवा बाजार है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi