live
S M L

मोदी पर सीधे हमले से केजरीवाल क्यों कतरा रहे हैं?

बीते चुनावों में पीएम मोदी की लोकप्रियता देख उन पर सीधा प्रहार नहीं कर रहे केजरीवाल

Updated On: Apr 18, 2017 04:10 PM IST

Amitesh Amitesh

0
मोदी पर सीधे हमले से केजरीवाल क्यों कतरा रहे हैं?

यूपी का चुनाव हो या उत्तराखंड का, विधानसभा चुनाव हो या फिर स्थानीय निकाय का चुनाव बीजेपी अपने सबसे बड़े चेहरे प्रधानमंत्री मोदी की लोकप्रियता को भुनाने से कतराती नहीं है. पार्टी के नेता से लेकर कार्यकर्ता तक मोदी-मोदी के नारे से पूरे चुनावी माहौल को मोदीमय बनाने से किसी तरह का परहेज नहीं करते.

मोदी विरोधी भी हर चुनाव में मोदी सरकार के काम काज को लेकर सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ही कठघरे में खड़ा करते हैं. लेकिन, दिल्ली के दंगल में इस बार चुनाव हो रहा है एमसीडी का और दिल्ली के दिग्गज अरविंद केजरीवाल की तरफ से मोदी के सीधे विरोध से परहेज करने की कोशिश की जा रही है.

ये भी पढ़ें: बीजेपी के लिए आपसी गुटबाजी से निपटना सबसे बड़ी चुनौती

शायद हाल के विधानसभा चुनावों में मोदी के नाम पर बीजेपी को मिली जीत ने केजरीवाल को रणनीति बदलने पर मजबूर कर दिया है. लाख कोशिशों के बावजूद पंजाब जीत न सकने का मलाल और गोवा में खाता तक नहीं खोल पाने के बाद अब शायद चाल बदल गई है.

केजरीवाल और उनके रणनीतिकारों को लग रहा है कि मोदी पर हमले का दांव उल्टा पड़ सकता है. इस वक्त मोदी की लोकप्रियता चरम पर है. अगर मोदी पर ज्यादा हमले हुए तो एमसीडी चुनाव में बीजेपी के खिलाफ बने एंटीइंकंबैंसी फैक्टर का फायदा नहीं मिल पाएगा. शायद बीजेपी भी यही सोच रही है कि केजरीवाल यही गलती कर दें और एमसीडी की लड़ाई को मोदी बनाम केजरीवाल बना दें. लिहाजा निशाने की दिशा बदल गई है.

रजौरी गार्डन की हार से लिया सबक? 

अरविंद केजरीवाल

रजौरी गार्डन के उपचुनाव में चित्त होने के बाद के चिंतन ने चाल में बदलाव कर मोदी से सीधे-सीधे पंगा न लेने की रणनीति पर मजबूर कर दिया है. शायद जनाब को डर सता रहा है कि मोदी लहर अगर दिल्ली में भी चल गया तो एमसीडी में आने का सपना धरा का धरा रह जाएगा. लिहाजा, हमला मोदी के बजाए बीजेपी पर हो रहा है.

दिल्ली में एमसीडी में बीजेपी दस साल से सत्ता में है. दस साल के कामकाज का हिसाब मांग कर बीजेपी को घेरा भी जा सकता है, लिहाजा अब एमसीडी के कामकाज और बीजेपी के काम को लेकर केजरीवाल हमलावर हैं.

ये भी पढ़ें: दिल्ली में जीत दिलाने उतरे यूपी-उत्तराखंड के 'हीरो'

आम आदमी पार्टी की रणनीति में बदलाव क्या रातोंरात हो गया है या फिर वक्त के थपेड़ों ने ऐसा कर दिया है. इस पर बहस हो सकती है. लेकिन, इसमें तनिक भी दो राय नहीं कि सरकार बनने के दो साल बाद भी केजरीवाल लोगों की नजर में खरे नहीं उतर पाए हैं. ढेर सारी उम्मीदों के साथ केजरीवाल को दिल्ली की जनता ने एकतरफा जीत दिलाई थी. कभी उपराज्यपाल से अधिकारों को लेकर खींचतान तो कभी कोई और बहाना, हमेशा काम के बजाए टकराहट में ही अटकी पड़ी दिल्ली सरकार से जनता को नाउम्मीदी ही हाथ लगी है.

नरेंद्र मोदी वाली गलती नहीं करना चाह रहे केजरीवाल

narendra modi in allahabad

ऐसी सूरत में केजरीवाल शायद उस गलती से बचना चाह रहे हैं जो गलती दिल्ली विधानसभा चुनाव के वक्त खुद नरेंद्र मोदी ने कर दी थी. उस वक्त मोदी का सीधे केजरीवाल पर निशाना साधना बीजेपी को उल्टा पड़ गया. सकारात्मक राजनीति और सपनों की सुंदर और सुहानी दिल्ली का ख्वाब संजोए दिल्ली की जनता को विकास के रोड मैप के बजाए विरोधियों पर हमले का ये अंदाज नहीं भाया था.

ये भी पढ़ें: सेक्स वीडियो मामले में घिरे आप के पूर्व मंत्री बीजेपी के साथ !

अब केजरीवाल इस बात को भांप चुके हैं. दिल्ली में उनकी सरकार के खिलाफ भी जनता में माहौल है. उनकी लोकप्रियता में कमी आई है. दूसरी तरफ यूपी फतह के बाद मोदी का ग्राफ सातवें आसमान पर है. ऐसे में इस चतुर केजरीवाल भला मोदी से पंगा लेने की गलती क्यों करें?

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi