विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

दिल्ली को लेकर कांग्रेस के दिल में क्या है ? माकन मजबूरी हैं या बलि का बकरा ?

पार्टी छोड़कर जाने वालों की शिकायत है कि माकन ने पार्टी में वरिष्ठ नेताओं की अनदेखी कर कब्जा जमा लिया है

Kinshuk Praval Kinshuk Praval Updated On: Apr 23, 2017 04:49 PM IST

0
दिल्ली को लेकर कांग्रेस के दिल में क्या है ? माकन मजबूरी हैं या बलि का बकरा ?

एक वक्त था कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री दिल्ली में कांग्रेस का विकास का चेहरा हुआ करती थीं. शीला दीक्षित का ही जादू था कि तकरीबन डेढ़ दशक तक उन्होंने दिल्ली की कमान संभाली.

यहां तक कि यूपी चुनाव के लिए भी उन्हें ही शुरुआत में चेहरा बनाया गया. लेकिन वक्त ऐसा बदला कि अपनी ही दिल्ली में बहादुर शाह ज़फर की तरह शीला दीक्षित खुद को बेगाना महसूस कर रही हैं. नए अध्यक्ष अजय माकन के शीला विरोध का ही नतीजा रहा कि दिल्ली के स्टार प्रचारकों में भी इस स्टार को जगह नहीं मिली. शीला समर्थकों के टिकट भी जमकर काटे गए.

ajay sheila

अरविंदर सिंह लवली का कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल होना कांग्रेस आलाकमान के लिए बड़ा संदेश था. अरविंद सिंह लवली पार्टी के फैसलों में अपनी अनदेखी के चलते नाराज थे.

ये भी पढे़ं : मंझधार में कांग्रेस, कौन लगाएगा नैया पार

जाहिर तौर पर उन्होंने अपनी व्यथा ऊपर तक पहुंचाने की कोशिश की होगी. लेकिन जब उन्हें भी आलाकमान से कोई जवाब नहीं मिला तब पार्टी छोड़ कर बीजेपी ज्वाइन करने के अलावा दूसरा चारा भी नहीं था.

अमित मलिक, अमरीश गौतम ने भी टिकट बंटवारे पर बगावत करते हुए बीजेपी का दामन थाम लिया. तो संदीप दीक्षित, एके वालिया, परवेज हाशमी और हारुन यूसुफ जैसे कांग्रेस के बड़े नेताओं की नाराजगी भी जगजाहिर है.

arvinder singh lovely1

यूपी चुनाव में मिली करारी शिकस्त के बाद से कांग्रेस के नेताओं का पार्टी छोड़ कर बीजेपी में जाने का सिलसिला सा चल निकला है. पार्टी छोड़कर जाने वालों की शिकायत है कि माकन ने पार्टी में वरिष्ठ नेताओं की अनदेखी कर कब्जा जमा लिया है. लेकिन तमाम आरोपों के बावजूद माकन बार बार दोहरा रहे हैं कि वो पार्टी में सबको साथ लेकर चल रहे हैं.

ये भी पढ़ें: जीत के लिए आरएसएस की राह पर चल निकली कांग्रेस!

विडंबना ये है कि कांग्रेस अपनी पुरानी खोई जमीन हासिल करने के लिए उन इमारतों को खंडहर समझ रही है जो कभी उसकी पहचान हुआ करती थीं.

देशभर में हाल में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की अपने फैसलों की वजह से दुर्गति हुई है. ऐसे में दिल्ली के दंगल में उसका दांव भी उल्टा पड़ सकता है.

ajay

कांग्रेस आलाकमान की चुप्पी शायद अंजाम तक खामोशी अख्तियार करने की रणनीति अपनाए हुए है. ताकि अगर एमसीडी चुनाव भी हाथ से निकल जाएं तो सारा ठीकरा अजय माकन पर फोड़ा जा सके. अगर किसी तरह ‘अच्छे दिन’ आ गए तो पंजाब का हवाला देते हुए ये कहा जा सके कि कांग्रेस वापसी की शुरुआत कर चुकी है.

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय माकन कांग्रेस आलाकमान की मजबूरी बेहद संजीदगी से समझते हैं. वो ये जानते हैं कि एमसीडी चुनाव में पिछले दस साल के इतिहास को देखते हुए कांग्रेस एक बार फिर राहुल को दांव पर नहीं लगाएगी.

बची खुची जमीन बचाने की कवायद में कांग्रेस

वो ये भी जानते हैं कि हाल के विधानसभा चुनावों में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस दिल्ली में कुछ नया वादा या दावा करने की हालत में नहीं है. साथ ही माकन ये भी जानते हैं कि उनके पास खोने को अब कुछ नहीं है और अगर जीत उनके हिस्से में आ गई तो वो दिल्ली में कांग्रेस के लिए तुरुप का इक्का बन जाएंगे.

ajay makan

आलाकमान ने भी चुप्पी अपना कर एक तरह से उन्हें दिल्ली का स्वतंत्र प्रभार दे रखा है और पार्टी छोड़कर जाने वाले पुराने वफादारों को लेकर उनसे कोई सवाल नहीं हो रहा है.

ये भी पढ़ें: सभी पार्टियों के लिए तुरूप का इक्का साबित होंगी महिला कैंडिडेट

एक तरफ माकन को लेकर कांग्रेस की मजबूरी साफ दिखाई दे रही है तो वहीं माकन का अतिउत्साह उनके भविष्य पर मंडराते सवालिया निशान की तरह नजर आ रहा है. लेकिन फिलहाल कांग्रेस अपनी खोई जमीन वापस हासिल करने की नहीं बल्कि बची खुची जमीन बचाने की कवायद में ज्यादा नजर आ रही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi