live
S M L

एमसीडी चुनाव: साफ सुथरी दिल्ली के लिए बीजेपी का प्लान तैयार है

अगर बीजेपी के हाथ में एमसीडी की बागडोर आती है तो तीनों एमसीडी को एक कर के केंद्र सरकार के अधीन किया जा सकता है

Updated On: Apr 12, 2017 01:45 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
एमसीडी चुनाव: साफ सुथरी दिल्ली के लिए बीजेपी का प्लान तैयार है

एमसीडी को डीडीए की तर्ज पर ही केंद्र के अधीन करने की कवायद चल रही है. बीजेपी के चुनाव प्रचार अभियान से यह बात निकल कर सामने आई है. अगर बीजेपी के हाथ में एमसीडी की बागडोर आती है तो तीनों एमसीडी को एक कर के केंद्र सरकार के अधीन कर दिया जाएगा.

बीजेपी नेताओं का कहना है कि अगर एमसीडी चुनाव में पार्टी को जीत हासिल होती है तो डीडीए के तर्ज पर ही एमसीडी को भी केंद्र सरकार के अधीन किया जा सकता है.

बीजेपी के थिंक टैंक का यह मानना है कि एमसीडी में वेतन को लेकर आए दिन हड़ताल और धरना प्रदर्शन होते रहते हैं. बीजेपी इस समस्या को दूर करने के लिए कई तरह के सुझावों पर काम कर रही है.

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के समय में एमसीडी को तीन भागों में बांटा गया था. बीजेपी के सूत्रों के मुताबिक निगम चुनाव में अगर पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ आती है और फिर अगले विधानसभा में भी अगर पार्टी को पूर्ण बहुमत मिलता है तो इस तरह के कदम उठाए जा सकते हैं.

एमसीडी को केंद्र के अधीन लाने के लिए देश की संसद से इसे पास कराना जरूरी होगा. संसद से पास होने के बाद निगम में न केवल डीडीए की तर्ज पर केंद्र के दिशा निर्देश पर काम हो सकेगा बल्कि, आए दिन फंड को लेकर उठ रही समस्याओं से भी एमसीडी को निजात मिल जाएगी.

पिछले कुछ सालों से निगम में काम करने वालों को सही समय पर वेतन नहीं मिल रहा है. वेतन नहीं मिलने से एमसीडी के कर्मचारियों को गंभीर चुनौतियों का सामना करना पड़ता है.

केंद्र के अधीन आ जाने से एमसीडी को सीधा फंड दिया जा सकेगा, जबकि मौजूदा समय में केंद्र से जो पैसे आते हैं वह दिल्ली सरकार अपनी सुविधा के अनुसार एमसीडी को जारी करती है. केंद्र से मिले अधिकांश फंड को दिल्ली सरकार अपने पास रख लेती है. इसलिए निगम में काम करने वालों को वेतन की समस्या का सामना करना पड़ता है.

बीजेपी के सीनियर नेता भी मानते हैं कि दिल्ली नगर निगम में सुविधाओं को विस्तार और दुरुस्त किए बिना विकास संभव नहीं है. इसलिए बीजेपी की जीत के बाद इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि एमसीडी को और कैसे बेहतर बनाया जा सके.

बीजेपी नेताओं का मानना है कि दिल्ली शहर के जीवन स्तर में सुधार करने करने के लिए बहुत काम करना बाकी है. वित्तीय क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने से लेकर सफाई व्यवस्था, चिकित्सा और आवास व्यवस्था का भी विशेष ख्याल रखा जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi