live
S M L

'ईवीएम' मशीनों से घबराए केजरीवाल ने चुनाव आयोग को लिखी चिट्ठी

केजरीवाल को ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की आशंका है

Updated On: Mar 14, 2017 02:42 PM IST

FP Staff

0
'ईवीएम' मशीनों से घबराए केजरीवाल ने चुनाव आयोग को लिखी चिट्ठी

एमसीडी चुनावों में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने ईवीएम मशीनों के इस्तेमाल न किए जाने का सुझाव दिया है. इस बारे में अरविंद केजरीवाल ने चुनाव आयोग को पत्र लिखा है.

केजरीवाल एमसीडी चुनावों में बैलेट पेपर के पुराने ढर्रे पर चुनाव करवाने के पक्षधर हैं. हाल ही में यूपी चुनावों में ईवीएम मशीनों में हुई गड़बड़ी के आरोपों के बाद केजरीवाल ने मशीनों को लेकर संदेह जाहिर किया है.

यूपी चुनाव के नतीजे आने के बाद बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की शिकायत की थी. हालांकि चुनाव आयोग मायावती के आरोपों को सिरे से खारिज कर चुका है.

पंजाब और गोवा में आम आदमी पार्टी की उम्मीद के मुताबिक नतीजे नहीं आने पर पार्टी के कई नेताओं ने ईवीएम मशीनों पर संदेह जाहिर किया था. जिसके बाद केजरीवाल अब एमसीडी चुनाव बैलेट पेपर पर करवाने की मांग कर रहे हैं. कांग्रेस के नेता अजय माकन ने भी इस मांग का समर्थन किया है.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को लगता है कि एमसीडी चुनावों में ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की जा सकती है इसलिए उन्होंने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर ईवीएम मशीनों के इस्तेमाल न किए जाने का अनुरोध किया है.

दिल्ली में म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन के चुनाव होने हैं. आम आदमी पार्टी ने अपने प्रत्याशियों का एलान भी कर दिया है. अरविंद केजरीवाल ने हाल ही में एलान किया था कि अगर उनकी पार्टी एमसीडी चुनावों में जीत हासिल करती है तो वो दिल्ली को लंदन जैसा बना देंगे.

आपको बता दें कि दिल्ली में तीनों एमसीडी मिलाकर कुल 272 वार्ड हैं. राज्य निर्वाचन आयोग ने 136 वार्डों को महिलाओं के आरक्षित कर दिया है. दिल्ली एमसीडी में महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत सीट आरक्षित है.

2017 के एमसीडी चुनाव में तीन पार्टियों के बीच मुख्य तौर मुकाबला होने की संभावना है. इस बार के चुनाव की खास बात ये है कि पहले के तुलना में इस बार तीन पार्टियों के बीच कांटे का मुकाबला है. पहले के एमसीडी चुनावों में कांग्रेस और बीजेपी के बीच ही मुख्य मुकाबला देखने को मिलता था. लेकिन इस बार आम आदमी पार्टी, कांग्रेस और बीजेपी को जबरदस्त टक्कर दे सकती है.

पिछले साल दिल्ली के 13 वार्डों में नगर निगम का उपचुनाव हुआ था, जिसमें 5-5 सीटें आप और कांग्रेस ने बांटे थे, जबकि बीजेपी के खाते में 3 सीटें गई थीं.

आम आदमी पार्टी ने 2015 के विधानसभा चुनाव में 272 वार्डों में से 250 में जीत दर्ज की थी. लेकिन 2016 के एमसीडी उप चुनाव में कांग्रेस ने 13 में से 5 सीट जीतकर जबरदस्त वापसी की थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi