S M L

मूर्ति मामले में SC की टिप्पणी पर बोलीं मायावती, कटी पतंग न बनें BJP और मीडिया

बीएसपी अध्यक्ष ने ट्वीट कर कहा, ‘मीडिया कृपा कर के सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी को तोड़-मरोड़ कर पेश न करे. अदालत में अपना पक्ष जरूर पूरी मजबूती के साथ आगे भी रखा जाएगा'

Updated On: Feb 09, 2019 02:52 PM IST

FP Staff

0
मूर्ति मामले में SC की टिप्पणी पर बोलीं मायावती, कटी पतंग न बनें BJP और मीडिया

बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के चुनाव चिह्न की मूर्तियों के विषय में सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी पर मायावती ने बीजेपी और मीडिया को नसीहत दी है. बीएसपी सुप्रीमो ने कहा कि मीडिया कृपा कर के कोर्ट की टिप्पणी को तोड़-मरोड़ कर पेश न करे. उन्होंने कहा कि इसपर मीडिया और बीजेपी के लोग कटी पतंग न बनें तो बेहतर है.

मायावती ने शनिवार को ट्वीट कर कहा, 'सदियों से तिरस्कृत दलित और पिछड़े वर्ग में जन्मे महान संतों, गुरुओं और महापुरुषों के आदर-सम्मान में निर्मित भव्य स्थल/स्मारक/पार्क आदि उत्तर प्रदेश की नई शान, पहचान तथा व्यस्त पर्यटन स्थल हैं, जिसके कारण सरकार को नियमित आय भी होती है.'

उन्होंने अपने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘मीडिया कृपा कर के सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी को तोड़-मरोड़ कर पेश न करे. माननीय अदालत में अपना पक्ष जरूर पूरी मजबूती के साथ आगे भी रखा जाएगा. हमें पूरा भरोसा है कि इस मामले में भी कोर्ट से पूरा इंसाफ मिलेगा. मीडिया और बीजेपी के लोग कटी पतंग न बनें तो बेहतर है.'

दरअसल शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा था कि उसे ऐसा लगता है कि बीएसपी प्रमुख मायावती को लखनऊ और नोएडा में अपनी और पार्टी के चुनाव चिह्न हाथी की मूर्तियां बनवाने पर खर्च किया गया सारा सरकारी धन लौटाना होगा.

सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया

सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस संजीव खन्ना की पीठ ने एक वकील की याचिका पर सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी की थी.

वर्ष 2009 में वकील रविकांत ने दायर अपनी याचिका में दलील दी थी कि सार्वजनिक धन का प्रयोग अपनी मूर्तियां बनवाने और राजनीतिक दल का प्रचार करने के लिए नहीं किया जा सकता.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi