S M L

महागठबंधन की जल्दी में ये क्या बोल गईं ममता और उमर अब्दुल्ला!

ममता ने कहा कि अगले लोकसभा चुनावों के लिए संभावित महागठबंधन की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर किसी का नाम नहीं चुना जाना चाहिए

Updated On: Jul 28, 2018 04:09 PM IST

FP Staff

0
महागठबंधन की जल्दी में ये क्या बोल गईं ममता और उमर अब्दुल्ला!

नरेंद्र मोदी और बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खड़ा करने की कोशिशों में जुटी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि प्रधानमंत्री पद की दावेदारी बीजेपी से लड़ने की क्षेत्रीय पार्टियों की एकजुटता का बंटाधार कर देगा. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि बीजेपी विरोधी क्षेत्रीय पार्टियों को साथ आना चाहिए और देश के फायदे के लिए उन्हें बलिदान देना चाहिए.

ममता बनर्जी ने यह बात शनिवार को कोलकाता में नेशनल कांफ्रेंस (एनसी) के अध्यक्ष उमर अब्दुल्ला के साथ बैठक के बाद कही. दोनों के बीच हुई इस बैठक को लेकर लगाए जा रहे अटकलों के बीच तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की अध्यक्ष ने कहा कि अगले लोकसभा चुनावों के लिए संभावित महागठबंधन की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर किसी का नाम नहीं चुना जाना चाहिए.

वहीं उमर अब्दुल्ला ने कहा कि विपक्ष की एकजुट लड़ाई तब तक कामयाब नहीं हो सकती जब तक बीजेपी के खिलाफ कांग्रेस विपक्षी रणनीति के मुताबिक लड़ाई न लड़े.

उन्होंने कहा, ममता दीदी का प्रस्ताव यही है कि भावी आम चुनावों के लिए बीजेपी विरोधी पार्टियों को कैसे लामबंद किया जाए और इसमें विपक्षी एकजुटता तब तक कामयाब नहीं हो सकती जब तक कांग्रेस विपक्ष की रणनीति के मुताबिक बीजेपी से लोहा न ले.

महागठबंधन की तैयारियों के बारे में उमर ने कहा, बातचीत चल रही है. लोग देख रहे हैं कि विपक्षी पार्टियों को एक मंच पर लाने के लिए कई प्रयास हुए हैं, खास कर सोनिया गांधी की ओर से. जैसे-जैसे 2019 का चुनाव नजदीक आएगा, मुझे भरोसा है कि महागठबंधन एक बड़ा आकार लेगा.

कांग्रेस ने राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद के लिए बताया था उम्मीदवार 

बता दें कि हाल ही में दिल्ली में कांग्रेस की नवगठित कार्यकारिणी बैठक में पार्टी ने एक सुर में राहुल गांधी का चेहरा आगे कर भावी लोकसभा चुनाव लड़ने का फैसला किया था. पार्टी ने यह घोषणा की थी कि राहुल गांधी ही प्रधानमंत्री के दावेदार होंगे.

कांग्रेस की ओर से यह भी कहा गया कि कोई भी विपक्षी गठबंधन बने लेकिन कांग्रेस को ही केंद्र में रखकर रणनीति बनाई जानी चाहिए. ऐसे में महागठबंधन बनने से पहले ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री पद की दावेदारी पर एक तरह से ब्रेक लगा दिया है.

(भाषा से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi