S M L

बीजेपी का गठबंधन जनता के साथ,विपक्ष एकजुट होकर भी नहीं रोक पाएगा मोदी को: बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष

महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने कहा कि अपनी भोग विलासिता के लिए सत्ता सुख से वंचित लोग अब प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी को रोकने के लिए गठबंधन कर रहे हैं

Updated On: Nov 30, 2018 07:18 PM IST

Bhasha

0
बीजेपी का गठबंधन जनता के साथ,विपक्ष एकजुट होकर भी नहीं रोक पाएगा मोदी को: बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने शुक्रवार को कहा कि अपनी भोग विलासिता के लिए सत्ता सुख से वंचित लोग अब प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी को रोकने के लिए गठबंधन कर रहे हैं. बीजेपी का जनता से गठबंधन है, इसलिए कोई कितने भी गठबंधन क्यों न कर ले, लेकिन मोदी को कोई भी ताकत फिर से प्रधानमंत्री बनने से नहीं रोक सकती.

पाण्डेय ने कहा कि देश की सत्ता की बागडोर संभालते ही प्रधानमंत्री ने गरीबों, वंचितों, शोषितों, अनुसूचितों सहित गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाले सभी वर्गों के लोगों की जीवनशैली में बदलाव लाने के संकल्प के साथ कार्य करना शुरू किया और कई कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से आमजन तक सरकारी सुविधाओं का लाभ पहुंचाकर लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाने का काम किया है.

कांग्रेस तो गांधी को भूल गए लेकिन मोदी उन्हीं के राह पर चल रहे हैं

वह शुक्रवार को पार्टी के अनुसूचित मोर्चे द्वारा स्थानीय विश्वेश्वरैया सभागार में आयोजित सामाजिक प्रतिनिधि बैठक को संबोधित कर रहे थे. प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष ने एसपी-बीएसपी और कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस ने महात्मा गांधी के नाम का तो उपयोग किया लेकिन उनके विचारों को नहीं अपनाया. कांग्रेस ने महात्मा गांधी के विचारों को कब का छोड़ दिया, इसके विपरीत मोदी ने गांधी के दिखाए रास्ते पर चलते हुए स्वच्छता को पूरे देश में एक आंदोलन का स्वरूप दे दिया.

उन्होंने कहा कि आजादी के बाद एसपी-बीएसपी और कांग्रेस जैसे दलों ने गरीबों के नाम पर गरीबी हटाने का नारा देकर सरकारें तो बनाईं, लेकिन इन गरीबों के जीवन स्तर में सुधार आए, इसके लिए कोई कार्य नहीं किया. एसपी-बीएसपी जैसे दल कांग्रेस के पदचिह्नों पर चलते हुए परिवारवाद और भ्रष्टाचार के दल-दल में फंस गए हैं.

पाण्डेय ने एसपी प्रमुख मुलायम सिंह यादव पर आरोप लगाते हुए कहा कि क्या लोहिया ने यही सिद्धांत और आदर्श दिया था कि मुलायम अपने ही परिवार के 67 से भी अधिक लोगों को विभिन्न पदों पर बिठाकर शासन सत्ता का सुख भोगते रहे. वहीं, बीएसपी ने भी आम्बेडकर के सिद्धान्तों को तिलाजंलि दे दी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi