S M L

शहरों के गरीब युवाओं को एक साल में 100 दिनों का रोजगार देगी कमलनाथ सरकार

शहरी क्षेत्र में युवाओं के लिए अस्थाई रोजगार और कौशल विकास को जोड़कर एक नई योजना 'युवा स्वाभिमान योजना' लागू होने जा रही है

Updated On: Jan 26, 2019 05:05 PM IST

FP Staff

0
शहरों के गरीब युवाओं को एक साल में 100 दिनों का रोजगार देगी कमलनाथ सरकार

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि उनकी सरकार प्रदेश के शहरी क्षेत्र के गरीब युवाओं को एक साल में 100 दिनों का रोजगार उपलब्ध कराएगी.

70वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर पुलिस लाइन, छिंदवाड़ा में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा, ‘प्रदेश का भविष्य युवा शक्ति के हाथ में है. हम शहरी क्षेत्र में युवाओं के लिए अस्थाई रोजगार और कौशल विकास को जोड़कर एक नई योजना 'युवा स्वाभिमान योजना' लागू करने जा रहे हैं.’

उन्होंने कहा कि इस योजना के अंतर्गत 10 फरवरी से युवाओं का रजिस्ट्रेशन शुरू होगा और फरवरी महीने में ही रोजगार और कौशल विकास का प्रशिक्षण देने का काम भी शुरू हो जाएगा.

कमलनाथ ने कहा, ‘इस योजना के अंतर्गत शहरी क्षेत्र के गरीब युवाओं को एक साल में 100 दिनों का रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा और इसी रोजगार के दौरान उनकी इच्छा के क्षेत्र में कौशल विकास का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा. इससे इस अवधि के बाद उनके हाथ में कौशल होगा और वे विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्ध रोजगार के अवसरों का पूरा-पूरा लाभ उठा सकेंगे.’

उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के लोगों को अधिक से अधिक रोजगार दिलाने के लिए हमने औद्योगिक नीति में बदलाव किया है और शासन की सहायता लेने वाले उद्योगों पर बंदिश लगाई है जिससे कम से कम 70 प्रतिशत रोजगार वे मध्य प्रदेश के लोगों को ही देंगे.

जनजातीय कल्याण को प्राथमिकता बताते हुए कमलनाथ ने कहा कि इसके लिए हम जनजातीय सांसदों और विधायकों की एक समिति बनाएंगे. समिति की अनुशंसा पर जनजातीय कल्याण के कार्य किए जाएंगे.

उन्होंने कहा कि आवारा पशुओं के लिए गौशाला खोलने की दिशा में भी प्रदेश में कार्य प्रारंभ हो चुका है. फरवरी महीने तक योजना को अंतिम रूप दे दिया जाएगा.

कमलनाथ ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं से धनराशि जुटाकर सड़क, बिजली, सिंचाई, जलापूर्ति और नगरीय अधोसंरचनाओं को विकसित किया जाएगा और इन क्षेत्रों में कार्यों को विशेष प्राथमिकता दी जाएगी. उन्होंने कहा कि स्कूलों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, अस्पतालों में बेहतर इलाज हमारी प्राथमिकताओं में है. गांवों को विकसित किए बिना प्रदेश का सर्वांगीण विकास संभव नहीं है.

कमलनाथ ने कहा कि ग्राम पंचायत स्तर पर योजना बनाकर स्थानीय लोगों की भागीदारी से उसे पूरा किया जायेगा. ग्राम सभाओं को और अधिक सशक्त बनाकर विशेष महिला ग्राम सभा आयोजित की जायेंगी.

उन्होंने वृद्धजनों, दिव्यांगों की सामाजिक सुरक्षा पेंशन की राशि अप्रैल महीने से 300 रुपए से बढ़ाकर 600 रुपए करने की घोषणा करते हुए कहा कि इसे हर साल बढ़ाया भी जाएगा. इसके अलावा, हम तेंदूपत्ता की मजदूरी दर 2000 रुपए प्रति मानक बोरा से बढ़ाकर 2500 प्रति मानक बोरा कर रहे हैं.

कमलनाथ ने कहा कि आध्यात्मिक धरोहरों को संवारने और विकसित करने के लिए आध्यात्म विभाग का गठन किया गया है. ‘जनता से किए गए वादों को पूरा करने में वित्तीय बाधा को आड़े नहीं आने दूंगा.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi