S M L

सिंधिया की अपील पर EC ने कहा- लोकल अधिकारी लें फैसला, चुनाव आयोग को दखल देने की जरूरत नहीं

मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि इस तरह के प्रावधान हैं जिन पर लोकल अधिकारी अपने स्तर पर फैसला ले सकते हैं और इसमें चुनाव आयोग को दखल देने की जरूरत नहीं है

Updated On: Nov 28, 2018 04:00 PM IST

FP Staff

0
सिंधिया की अपील पर EC ने कहा- लोकल अधिकारी लें फैसला, चुनाव आयोग को दखल देने की जरूरत नहीं

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग जारी है. इस बीच बुधवार को कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मतदान केंद्रों मे वोटिंग के समय को बढ़ाने की मांग की. उनकी इस अपील पर मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि इस तरह के प्रावधान हैं जिन पर लोकल अधिकारी अपने स्तर पर फैसला ले सकते हैं और इसमें चुनाव आयोग को दखल देने की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि जहां-जहां से ईवीएम मशीनों में खराबी की शिकायतें आ रही हैं उन मशीनों को तुरंत ही दुरुस्त या फिर बदला जा रहा है.

दरअसल बुधवार को मध्यप्रदेश में कई जगहों पर ईवीएम की खराबी की वजह से मतदान बाधित हुआ जिस पर सिंधिया ने ये मांग की कि पोलिंग का समय बढ़ाना चाहिए ताकि सभी लोग अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकें. वहीं कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ये आरोप लगाया कि जहां जहां कांग्रेस मजबूत है वहां ईवीएम खराब होने की शिकायतें आ रही हैं.

सिंधिया ने ग्वालियर में संवाददाताओं से कहा, ‘मैंने चुनाव आयोग से मांग की है कि ईवीएम मशीनें बदलने में जो समय बर्बाद हुआ और इस दौरान जो लोग वोट नहीं कर सके उनके लिए आयोग को ऐसे केन्द्रों में मतदान के समय में बढ़ा देना चाहिए जहां मशीने खराब हुईं हैं. उन्होंने कहा कि मैंने इस मामले में मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत और प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव से फोन पर बात की है.’ सिंधिया ने कहा कि वह चाहते हैं कि अधिक से अधिक लोग मतदान कर सकें.

मध्य प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कांताराव ने बुधवार सुबह 10 बजे बताया कि 70 ईवीएम मशीनों में खराबी आई. उन्होंने कहा कि खराब ईवीएम मशीनों की संख्या बढ़कर 100 तक पहुंच सकती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi