S M L

मध्य प्रदेश चुनाव 2018: BSP को 230 में से 32 सीटें जीतने की उम्मीद

प्रदीप अहिरवार ने दावा किया है कि राज्य में इस बार उनकी पार्टी अपने 34 साल के इतिहास का सबसे बेहतर प्रदर्शन करते हुए कम से कम 32 सीटें जीतेगी

Updated On: Nov 04, 2018 04:31 PM IST

Bhasha

0
मध्य प्रदेश चुनाव 2018: BSP को 230 में से 32 सीटें जीतने की उम्मीद
Loading...

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में तमाम राजनीतिक दल जीत के लिए दिन-रात एक कर रहे हैं. ऐसे में बीएसपी की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष प्रदीप अहिरवार ने दावा किया है कि राज्य में इस बार उनकी पार्टी अपने 34 साल के इतिहास का सबसे बेहतर प्रदर्शन करेगी. उन्हें उम्मीद है कि बीएसपी कम से कम 32 सीटें जीतेगी और सत्ता की चाबी बीएसपी के पास रहेगी. मध्यप्रदेश में कुल 230 सीटें हैं. इसके अलावा एक नॉमिनेटेड सीट है. एमपी में 28 नवंबर को चुनाव होने वाले हैं.

अहिरवार ने राज्य में 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में किसी पार्टी को बहुमत न मिलने की भविष्यवाणी की है. उन्होंने कहा, ‘हम कम से कम 32 सीटों पर जीत दर्ज करेंगे. कुल मिलाकर 75 सीटों पर हमारी स्थिति पहले से बहुत अच्छी है.’

उन्होंने कहा, ‘साल 2003 में बीएसपी ने राज्य विधानसभा चुनाव में दो सीटें जीती थीं, 2008 में सात और 2013 में चार सीटें जीती थीं. इस बार प्रदेश में 15 साल से सत्ता पर काबित बीजेपी के खिलाफ जबरदस्त सत्ता विरोधी लहर और दलित एकता के चलते हम अच्छी जीत की स्थिति में हैं.’

उन्होंने कहा, ‘लोकतंत्र में एक सीट लेने वाला निर्दलीय भी कभी-कभी मुख्यमंत्री बन जाता है. मैं तो कम से कम 32 सीटों पर बीएसपी की जीत की उम्मीद के साथ आपको यह बता रहा हूं. हम चाहते हैं कि मध्यप्रदेश की सत्ता की धुरी  बीएसपी सुप्रीमो मायावती के आजू-बाजू रहे, लेकिन यह तय है कि खंडित जनादेश आने पर हम बीजेपी को समर्थन नहीं करेंगे.’

इन-इन सीटों पर जीतने की उम्मीद

उन्होंने बताया, ‘पिछले चुनाव में प्रदेश के पांच जिलों मुरैना, रीवा, सतना, दतिया और ग्वालियर में बीएसपी का दबदबा था. इस बार भी इन जिलों की कुछ सीटों से हम जीतेंगे. इसके अलावा छतरपुर, पन्ना, शिवपुरी, श्योपुर, दमोह, कटनी, बालाघाट और सिंगरौली जिलों में भी पार्टी का खाता खुलने की पूरी उम्मीद है.’

वर्ष 2008 के राज्य विधानसभा चुनाव में पार्टी का वोट प्रतिशत 8.97 प्रतिशत रहा था, जो 2013 में करीब ढाई प्रतिशत गिरकर 6.29 प्रतिशत रह गया. अहिरवार ने इस बार पार्टी को 10 प्रतिशत से अधिक वोट मिलने का दावा किया.

'दलित वर्ग का बीएसपी पर भरोसा'

इसकी वजह स्पष्ट करते हुए उन्होंने बताया, ‘फिलहाल माहौल अलग है. दलित वर्ग अपने अधिकारों के प्रति पहले से ज्यादा जागरूक है और अपनी स्थिति बेहतर बनाने के लिए वह बीएसपी पर भरोसा करेंगे. राज्य में पिछले वर्ष के किसान आंदोलन के खिलाफ बीजेपी सरकार ने जो कदम उठाए थे, उसकी वजह से किसान भी इस सरकार के खिलाफ हैं.’

प्रदेश में जबर्दस्त सत्ता विरोधी लहर का दावा करते हुए अहिरवार ने कहा कि पिछले 13 साल से राज्य के मुख्यमंत्री रहे शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी सरकार की हालत खराब है. चौहान दो सीटों से चुनाव लड़ने वाले हैं. चौहान जिस बुधनी विधानसभा सीट से जीतते हैं, वहां वह मतदाताओं की नाराजगी के चलते चुनाव सभा तक नहीं कर पा रहे हैं.’

उन्होंने कहा कि हम पहली बार मध्य प्रदेश में चुनाव नहीं लड़ रहे हैं, लेकिन अपने दम पर अकेले चुनाव लड़ना ही पार्टी का इतिहास रहा है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi