S M L

एमपी चुनाव 2018: BJP के 'साइबर वॉरियर्स' से भिड़ेंगे कांग्रेस के 'राजीव के सिपाही'

दोनों राजनीतिक पार्टियों के आईटी सेल के मुताबिक चुनाव से पहले उनका उद्देश्य सोशल मीडिया के फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप इत्यादि प्लेटफॉर्म के जरिए अधिक से अधिक लोगों को पार्टी से जोड़ना है

Updated On: Jun 19, 2018 03:45 PM IST

FP Staff

0
एमपी चुनाव 2018: BJP के 'साइबर वॉरियर्स' से भिड़ेंगे कांग्रेस के 'राजीव के सिपाही'
Loading...

इस साल के अंत में होने वाले मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक दलों ने कमर कस लिया है. बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही चुनाव की तैयारियों में जोर-शोर से जुट गई हैं.

कांग्रेस और बीजेपी ने चुनावी बिसात में एक-दूसरे को मात देने के लिए साइबर वॉर की तैयारी शुरू कर दी है. कांग्रेस ने अपने सोशल मीडिया टीम को 'राजीव के सिपाही' नाम दिया है तो बीजेपी ने 'साइबर वॉरियर्स' की टीम खड़ी की है.

बीजेपी के प्रदेश आईटी सेल के प्रभारी शिवराज सिंह दबी ने कहा कि पार्टी ने लगभग 65 हजार साइबर सदस्यों की तैनाती की है. इन सभी को पिछले 3 महीने के भीतर चुना गया है. जबकि 5 हजार और साइबर एक्सपर्ट युवा टीम से जोड़े जाएंगे.

मध्य प्रदेश कांग्रेस ने तकरीबन 4 हजार 'राजीव के सिपाही बनाए हैं. इन्हें बीजेपी के साइबर अटैक का जवाब देने के लिए तैयार किया जा रहा है. कांग्रेस के राज्य आईटी सेल इंचार्ज धर्मेंद्र वाजपेई ने कहा कि लगभग 5 हजार और लोगों को आईटी सेल से जोड़ा जाएगा. फिर 25 जून से प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जाएगा, जिसमें युवाओं को कांग्रेस की विचारधारी और नीतियों से जोड़ने के लिए 'राजीव के सिपाहियों' को ट्रेनिंग दी जाएगी.

दोनों राजनीतिक पार्टियों के आईटी सेल के राज्य प्रभारियों ने कहा कि उनका उद्देश्य सोशल मीडिया के फेसबुक, ट्विटर इत्यादि प्लेटफॉर्म के जरिए अधिक से अधिक लोगों को पार्टी से जोड़ना है. व्हाट्सएप के जरिए भी लोगों को पार्टी से जोड़ा जाएगा. बीजेपी आईटी सेल के प्रभारी के अनुसार गांवों के लोगों तक संदेश पहुंचाने के लिए व्हाट्सएप कारगर हथियार है. उन्होंने बताया कि बीजेपी आईटी सेल ने 1 से लेकर 10 जून तक कांग्रेस समर्थित 'गांव बंद' आंदोलन का सोशल मीडिया से काउंटर अटैक किया था.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi