S M L

मध्य प्रदेश में मदरसों को मिलेगा सालाना 50,000 रुपए का अनुदान

शिवराज सिंह चौहान ने मदरसों में छात्रों को दीनी तालीम के साथ ही आधुनिक शिक्षा देने की वकालत करते हुए बच्चों को हुनरमंद बनाने पर जोर दिया है

Bhasha Updated On: Sep 23, 2017 05:14 PM IST

0
मध्य प्रदेश में मदरसों को मिलेगा सालाना 50,000 रुपए का अनुदान

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के मदरसों में छात्रों को दीनी तालीम के साथ ही आधुनिक शिक्षा देने की वकालत करते हुए बच्चों को हुनरमंद बनाने पर जोर दिया है.

मुख्यमंत्री ने ढांचागत विकास के लिए प्रत्येक मदरसे को सालाना तौर पर मिलने वाली राशि को 25,000 रुपए से बढ़ाकर 50,000 रुपए करने की घोषणा भी की.

चौहान ने शुक्रवार को मदरसा बोर्ड के 20 वें स्थापना दिवस समारोह को संबोधित करते हुए कहा, ‘दीनी तालीम के साथ ही मदरसों में आधुनिक शिक्षा भी दी जाए. आधुनिक समय में बच्चों को हुनरमंद बनाना जरूरी है. बच्चों को दीनी और आधुनिक शिक्षा साथ-साथ देते हुए उन्हें अच्छा इंसान बनाना होगा.’

मुख्यमंत्री ने कहा कि मदरसों के ढांचागत विकास के लिए प्रत्येक मदरसे को सालाना तौर पर मिलने वाली राशि को 25,000 रुपए से बढ़ाकर 50,000 रुपए किया जाएगा. इसके अलावा म.प्र. मदरसा बोर्ड के लिए आडिटोरियम भी बनाया जाएगा.

शिक्षा में भेदभाव नहीं करेगी सरकार

उन्होंने कहा कि सरकार ने बच्चों की शिक्षा में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं होने दिया है. सबके लिये योजनाएं हैं. विद्यार्थी ईश्वर का उत्कृष्ट उपहार हैं. इनके लिए बेहतर से बेहतर करने की जिम्मेदारी सरकार की है.

चौहान ने कहा कि शिक्षा का उद्देश्य विद्यार्थियों में ज्ञान का हस्तांतरण करना, उन्हें हुनरमंद बनाना और अच्छे नागरिक संस्कार देना है.

इस अवसर पर प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह ने कहा कि मदरसा कक्षाओं में पहली कक्षा से ही कंप्यूटर शिक्षा दी जा रही है.

उन्होंने बताया कि अन्य स्कूलों की तरह मदरसों में भी हर दिन तिरंगा फहराया जाएगा. समारोह में मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष प्रो सैयद इमादुद्दीन ने बताया कि अब तक 2575 मदरसों का पंजीयन हुआ है जिनमें दो लाख 88 हजार बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं.

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने उत्कृष्ट मदरसों, उत्कृष्ट मदरसा शिक्षक-शिक्षिकाओं और प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को सम्मानित किया. मदरसा बोर्ड की उल्लेखनीय प्रगति दर्शाने वाली स्मारिका का विमोचन भी किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi