विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

बूचड़खानों पर कार्रवाई: गोश्त विक्रेता अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

अवैध बूचड़खानों के बंद होने के विरोध में मटर और चिकन विक्रेताओं ने भी दुकानें बंद कर दी हैं

Bhasha Updated On: Mar 25, 2017 10:49 PM IST

0
बूचड़खानों पर कार्रवाई: गोश्त विक्रेता अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

अवैध बूचड़खानों पर कार्रवाई का विरोध करते हुए गोश्त विक्रेता आज अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं.

लखनऊ बकरा गोश्त व्यापार मंडल के मुबीन कुरैशी ने बताया कि मटन और चिकन विक्रेताओं ने अपने शटर बंद कर दिए हैं और सोमवार से आंदोलन तेज करने की भी धमकी दी है.

अवैध बूचड़खानों के बंद होने के बाद भैंसे के गोश्त की किल्लत के चलते चिकन और मटन के व्यंजन बेच रहे टुंडे और रहीम जैसे मशहूर नामों सहित मांसाहार बेचने वालों ने भी दुकानें बंद कर दी हैं.

कुरैशी ने कहा कि पशु वधशालाओं पर कार्रवाई से मीट विक्रेताओं पर बुरा असर पड़ा है. इस कारोबार में लगे लाखों लोगों के समक्ष रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है.

उन्होंने कहा कि मटन और चिकन विक्रेता पहले ही दुकानें बंद कर चुके हैं. अब मछली विक्रेताओं को भी साथ लेने की कोशिश हो रही है और वे भी जल्द हमारे साथ आंदोलन में शामिल होंगे.

सत्ता में आते ही आदित्यनाथ योगी सरकार ने अवैध बूचड़खानों को बंद करने के आदेश दिए. गो तस्करी और गोवध पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है. विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने प्रदेश की जनता से यह वायदा किया था.

बीजेपी नेता मजहर अब्बास ने मीट विक्रेताओं से अपील की है कि जो सही हैं, उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि केवल अवैध दुकानें और बूचड़खानों पर सरकार की कार्रवाई के दायरे में आ रही हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi